लॉक डाउन तोड़ने के आरोप में  कांग्रेस के उतराखंड प्रभारी अनुग्रह नारायण सिंह पर हुए एफआईआर के विरोध में  शनिवार को पार्टी जन्म उबल पड़े। सामाजिक दूरी का पालन करते हुए एलोपीबाग में कांग्रेसियों ने बैठक कर पुलिस की कार्रवाई पर विरोध प्रकट किया। दूसरी और वरिष्ठ नेताओं में भी इस घटना को लेकर खासा आक्रोश रहा और उन्होंने आलोचना की। कांग्रेस जनों  ने पार्टी नेता पर मजदूरों हितों को लेकर आवाज उठाने के मुद्दे दर्ज हुए मुकदमे की तीव्र निंदा की ।

प्रदेश कांग्रेस राज्य समिति के सदस्य किशोर वार्ष्णेय की अध्यक्षता में हुई बैठक के बाद आईजी जोन केपी सिंह को दिए ज्ञापन में दर्ज एफआईआर वापस किए जाने की मांग की गई ।कहा गया कि इसी प्रकार का फर्जी मुकदमा प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू के विरूद्घ भी पंजीकृत किया गया है । पूर्व महापौर जितेन्द्र नाथ सिंह, फुजैल हाशमी,डॉ एसबी लाल,हरिकेश त्रिपाठी,अजय श्रीवास्तव,परवेज सिद्दीकी,मुमताज अंसारी, अरशद अली, सुभाष यादव, कैफ वारसी समेत कई नेताओं ने आक्रोश जताया।
उधर,शहर कांग्रेस कमेटी की ओर से शहर उपाध्यक्ष पूनम सिंह के अलोपीबाग स्थित आवास पर बैठक में  कांग्रेस नेता व अन्य मजदूर नेताओं पर दर्ज प्राथमिकी को गलत करार दिया गया।शहर अध्यक्ष नफीस अनवर ने कहा कि कांग्रेस का एक- एक कार्यकर्ता अपने नेता के साथ खड़ा है। सरकार जितनी भी एफआईआर करनी हो करे, जेल भेजना हो भेजे,लेकिन कांग्रेस गरीबों और असहायों की अवाज बन कर उनके हितों के लिए लड़ती रहेगी।

कांग्रेसियों ने की पूर्व विधायक अनुग्रह पर एफआईआर की निंदा

शहर उत्तरी के पूर्व विधायक अनुग्रह नारायण सिंह के खिलाफ  दर्ज हुए एफआईआर के खिलाफ  कांग्रेसियों ने शनिवार को आक्रोश जताया। आईजी को ज्ञापन सौंपकर एफआईआर रद्द कराने की मांग की। उन्होंने कहा कि मजदूरों के हितों को लेकर आवाज उठाने के मुद्दे पर धारा 144 व लॉकडाउन तोड़ने जैसे आरोप लगाकर मुकदमा दर्ज करना गलत है। सदस्यों ने इसकी निंदा करते हुए इसे लोकतंत्र की हत्या बताया।
पूर्व महापौर चौधरी जितेंद्र नाथं सिंह, किशोर वार्ष्णेय, फुजैल हाशमी, अजय श्रीवास्तव, संतोष मिश्रा आदि ने कहा, गरीबों, कामगारों और मजदूरों की आवाज को दबाया नहीं जा सकता है। ऐसा ही फर्जी मुकदमा कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष के खिलाफ  भी पंजीकृत किया गया। इससे प्रदेश के लोगों में आक्रोश है। उधर, शहर कांग्रेस कमेटी की उपाध्यक्ष डॉ. पूनम सिंह के आवास पर जुटे शहर कांग्रेस अध्यक्ष नफीस अनवर, श्रीश दुबे, अनिल कुशवाहा, बब्लू सिब्तैन आदि ने भी एफआईआर दर्ज किए जाने की निंदा की।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.