जिस प्रवासी श्रमिक-कामगारों की फिक्र पर सियासत हो रही है, उन गरीबों को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संपदा बताया है। योगी ने कहा है कि एक मार्च से अब तक जो करीब तीस लाख प्रवासी वापस आए हैं, वह उत्तर प्रदेश की संपदा हैं। इनके बल पर प्रदेश का विकास और तेज होगा। यह आर्थिक रूप से मजबूत होंगे, तो प्रदेश अपने आप विकसित होने लगेगा। इसके लिए सरकार हरसंभव प्रयास कर रही है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को टीम-11 के साथ श्रमिकों की व्यवस्था की समीक्षा की। उन्होंने दूसरे राज्यों से आने वाले सभी लोगों और इन लोगों के परिजनों से अपील की है कि ये लोग खुद आगे आकर अपने स्वास्थ्य के विषय में जानकारी दें, जिससे उनका इलाज सही समय पर शुरू किया जा सके।

लोकभवन में पत्रकारों से बातचीत में अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि सीएम योगी ने ग्राम प्रधानों को भी विशेष रूप से जागरूक रहने के लिए कहा है। उन्होंने बताया कि भारी संख्या में प्रवासियों के आने के कारण ही सीएम ने स्वास्थ्य विभाग की टेस्टिंग क्षमता को और बढ़ाकर प्रतिदिन 10 हजार करने को कहा है। अभी विभाग द्वारा प्रतिदिन लगभर सात हजार टेस्ट प्रतिदिन किए जा रहे हैं।

अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि उत्तर प्रदेश के लिए लगातार श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलाई जा रही हैं। अब तक गुजरात से 355, महाराष्ट्र से 181, पंजाब से 144, राजस्थान से 28, दिल्ली से 36, कर्नाटक से 33 ट्रेन सहित कुल 1154 ट्रेनों की व्यवस्था की गई है। उन्होंने बताया कि इन ट्रेनों के माध्यम से अब तक उत्तर प्रदेश में 15 लाख 27 हजार लोगों ने वापसी की है। अब दूसरे चरण में हरियाणा से 3982 बसों से 1 लाख 35 हजार, राजस्थान से 355 बसों से 13224 और मध्यप्रदेश से 1350 बसों से 49 हजार लोगों को लाया गया है। उन्होंने बताया कि एक मार्च से अब तक 20 लाख लोग यूपी में आए हैं

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.