उत्तर प्रदेश में कांग्रेस का बचा-खुचा एक मात्र गढ़ रायबरेली भी अब जर्जर होने लगा है। यहां से पार्टी की अध्यक्ष सोनिया गांधी सांसद हैं, लेकिन उनकी धमक भी काफूर हो चुकी है। कारण संगठन ने जिन्हें अपना समझकर चुनाव लड़ाया था और जो जीते भी थे, अब वही पार्टी की छीछालेदर करने पर आमादा हैं।

छह विधानसभा क्षेत्र वाले रायबरेली जिले में कांग्रेस के दो विधायक हैं। सदर क्षेत्र से अदिति सिंह तो दूसरे हरचंदपुर विधायक राकेश प्रताप सिंह। ये दोनों ही दल के निर्णय और नेताओं की अनदेखी के साथ इन पर तंज कसने से भी नहीं चूकते। सत्तादल से नजदीकियों ने इन्हें अपनी पार्टी का बागी बना दिया है।

पार्टी में हैं मगर, साथ नहीं

21 अप्रैल 2018 को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ रायबरेली में आयोजित जनसभा में आए, जिसमें पंचवटी परिवार कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हो गया। इसी परिवार के सदस्य विधायक राकेश प्रताप सिंह हैं। जिन्होंने मंच तो साझा नहीं किया मगर, पार्टी के साथ भी नजर नहीं आए।

जिला पंचायत की रार से बढ़ी दूरी

जिला पंचायत अध्यक्ष पद को लेकर मई 2019 में राजनीति गरमा गई। सदर विधायक अदिति सिंह अपने साथ कई जिला पंचायत सदस्यों को लखनऊ से रायबरेली ला रही थी तभी हाईवे पर उनकी गाड़ी दुर्घटनाग्रस्त हो गई। अदिति ने खुद पर हमला होने का आरोप एमएलसी दिनेश प्रताप सिंह, उनके भाई जिला पंचायत अध्यक्ष अवधेश प्रताप सिंह पर लगाया। इसी घटना के बाद एकाएक अदिति का मोह भी कांग्रेस से भंग होने लगा। अब तो उन्होंने राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा पर ही सीधा निशाना साधा है।

जनता के प्रति समर्पित, पार्टी के प्रति नहीं

कांग्रेस से हरचंदपुर के विधायक राकेश प्रताप सिंह ने कहा कि राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका वाड्रा एक हजार बसों की बात कर रही हैं। उनकी मां सोनिया गांधी यहां से सांसद हैं। यहां के एक हजार व्यक्तियों को राशन तक तो पहुंचा नहीं पाईं। क्या उन्होंने इस जिले के लोगों को बाहर से लाने की व्यवस्था की। हम जनता के वोट से जीते हैं। जनता के प्रति समर्पित हैं, पार्टी के प्रति नहीं।

दोनों की विधायकी निरस्त करने के लिए अपील

रायबरेली के कांग्रेस जिलाध्यक्ष पंकज तिवारी ने कहा कि विधायक अदिति सिंह और विधायक राकेश प्रताप सिंह पार्टी से निलंबित हैं। उनकी विधायकी निरस्त करने के लिए विधानसभा में अपील की गई है। ये दोनों नेता पार्टी विरोधी गतिविधियों में लिप्त रहते हैं।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.