भारत के सबसे बेहतरीन फील्डरों में से एक रहे पूर्व क्रिकेटर मोहम्मद कैफ ने गुरुवार को हेलो ऐप पर लाइव वीडियो सेशन के दौरान काफी बातें शेयर कीं। कैफ ने इस दौरान यो-यो टेस्ट पर कहा कि फिटनेस क्रिकेटरों के लिए बेहद अहम है। अगर हम अपने समय में यो-यो टेस्ट कराते तो लक्ष्मीपति बालाजी और मैं उसे पास कर लेते। युवराज सिंह की फिटनेस भी अच्छी थी। लेकिन मुझे नहीं लगता कि उस टीम में कोई और खिलाड़ी यो-यो टेस्ट पास कर पाता। आपको बता दें कि कैफ जिस टीम में खेलते थे, उस टीम में सौरव गांगुली, सचिन तेंदुलकर, वीरेंद्र सहवाग और राहुल द्रविड़ जैसे दिग्गज भी थे।

इनके अलावा टीम में अनिल कुंबले, हरभजन सिंह, जहीर खान, अजीत अगरकर और आशीष नेहरा जैसे खिलाड़ी भी थे, जिन्होंने इस खेल पर अपनी खूब छाप छोड़ी। बता दें कि मोहम्मद कैफ और युवराज सिंह की जोड़ी ने कई बार गेंदबाजी या बल्लेबाजी से नहीं बल्कि अपनी फील्डिंग से कई मैच अपनी टीम को जिताए थे। कैफ को 2002 में इंग्लैंड के खिलाफ ऐतिहासिक लॉर्ड्स मैदान पर भारत को नेटवेस्ट ट्रॉफी का फाइनल मैच जिताने का श्रेय जाता है जब उन्होंने आखिर में जहीर खान के साथ मिलकर भारत को यादगार जीत दिलाई थी।

मोहम्मद कैफ ने इस दौरान कहा कि पूर्व कप्तान और वर्तमान में बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली सीधी बात करते हैं। उन्होंने बेहद कम समय में काफी अच्छे फैसले लिए हैं और वो क्रिकेट में पारदर्शिता और व्यवस्था में सकारात्मक बदलाव ला सकते हैं। इसलिए मुझे लगता है कि सौरव गांगुली को एक और कार्यकाल मिलना चाहिए। कैफ के नाम 13 टेस्ट में कुल 624 रन और 125 वनडे की 110 पारियों में कुल 2753 रन दर्ज हैं। उन्होंने वनडे करियर में 2 शतक और 17 अर्धशतक लगाए।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.