मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने करीब 3.25 लाख ग्रामीण महिलाओं को रोजगार से जोड़ने के लिए 31 हजार 938 ग्रामीण स्वयं सहायता समूहों के खाते में 218.49 करोड़ रुपये ट्रांसफर किए। यह धनराशि समूहों को रिवाल्विंग फंड और सामुदायिक निवेश निधि के तहत दिए गए हैं। जिससे समूहों से जुड़ी महिलाएं स्वरोजगार से जुड़ेंगी।

गुरुवार को कालिदास मार्ग स्थित मुख्यमंत्री आवास से फंड ट्रांसफर किए जाने के दौरान मुख्यमंत्री ने समूहों की महिलाओं और प्रवासी श्रमिकों से वीडियो कांफ्रेसिंग के माध्यम से बातचीत भी की। इस फंड से महिलाएं सिलाई, कढ़ाई, पत्तल बनाना, मसाला, आचार, अगरबत्ती जैसे उत्पादों के लिए काम करेंगी। फंड का उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों में स्वरोजगार और स्वावलंबन को बढ़ावा देना है।

समूह कुछ भी करने में सक्षम

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि कोरोना संकट के समय में भी महिला स्वयं सहायता समूह हर संभव योगदान दे रहे हैं। कुछ समूह ऐसे हैं जिन्होंने इस मुश्किल वक्त में पीपीई किट तक का उत्पादन किया। समूह अत्यंत प्रतिभाशाली हैं, इन्हें यदि थोड़ा मार्गदर्शन और सहयोग दे दिया जाए तो कुछ भी करने में सक्षम हैं।

प्रवासी श्रमिकों की प्रतिभा से यूपी बनेगा ब्रांड

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार सभी प्रवासी कामगार और श्रमिकों को उनके स्किल के अनुसार प्रदेश में रोजगार देगी। जिससे उनकी प्रतिभा का लाभ राज्य को मिलेगा। देश और दुनिया के सामने उत्तर प्रदेश प्रत्येक क्षेत्र में अग्रणी स्थान पर होगा। उन्होंने कहा कि हम उत्तर प्रदेश को रेडीमेड गारमेंट्स का हब और ब्रांड बना सकते हैं।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.