यूपी के बाराबंकी जिले में एक साथ जन्म लेने वाले 5 बच्चों में तीसरे दिन एक की मौत हो गई। एसएनसीयू वार्ड में भर्ती अन्य 4 बच्चों में से दो की हालत गंभीर बनी है। शरीर के कई अंग विकसित ना होने की बात चिकित्सक कह रहे हैं।

3 दिन पूर्व एक साथ जन्मे थे 5 बच्चे: सूरतगंज क्षेत्र के ग्राम कुतलूपुर निवासी प्रसूता अनीता गौतम का 3 दिन पूर्व प्रसव हुआ था। प्रसूता के पति कुंदन के मुताबिक एक बच्चा घर पर और बाकी चार सीएचसी सूरतगंज में जन्मे थे। 7 माह में ही प्रसव हो जाने पर जच्चा बच्चा की हालत गंभीर देख जिला महिला अस्पताल रेफर किया गया था। 3 दिन से चल रहे इलाज के बाद एक बच्चे की गुरुवार देर रात मौत हो गई।

अंग न विकसित हो पाने से उत्पन्न हो रहीं समस्याएं: जिला महिला अस्पताल में तैनात बाल रोग विशेषज्ञ डॉक्टर इंद्र भवन तिवारी ने बताया कि गर्भ में 5 बच्चे होने के कारण 7 माह पर ही असुरक्षित प्रसव हो गया। जिससे गर्भकाल का समय पूरा ना होने पर जन्मे बच्चों के ह्रदय, आंख, फेफड़े व रक्त धमनियां समेत कई अंग अविकसित रह गए। जिससे किसी को सांस लेने में दिक्कत है तो किसी की धड़कने काफी कमजोर है।

फिलहाल बच्चों को एसएनसीयू वार्ड में रखकर इलाज किया जा रहा है। परिजनों से सारी समस्याओं से अवगत करा दिया गया था, लेकिन परिजन लखनऊ ले जाने में असमर्थता जताते हुए यहीं पर रखकर इलाज करने की इच्छा जाहिर की है। जिस बच्चे की मौत हुई है, उसे भर्ती के दौरान ही इंजरी थी और सांस लेने में काफी दिक्कत हो रही रही थी। हालांकि अभी दो और बच्चों की हालत सामान्य से थोड़ा गंभीर है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.