नवीन निगम
मैं अपने सात भाई बहनों में पांचवे नम्बर पर हूं, मां का निधन जब मैं छोटा था तभी हो गया था, पिता सरकारी अधिकारी थे इसलिए पत्रकारिता में मेरी कम आय से शायद खुश भी नहीं रहे हो। उन्हें विदेश जाना और बड़े अधिकारी होना ही रास आता था, बाद में मेरी बड़ी बेटी की बीमारी के चलते मुझे पत्रकारिता छोड़ व्यापार में आना पड़ा। शायद वो इससे खुश थे यह अलग बात थी कि मैं पत्रकारिता छोड़कर खुश हूं कि नहीं यह मैं आज तक खुद भी नहीं समझ सका। आज मैं इस विषय पर इसलिए लिख रहा हूं क्योंकि मैं देख रहा हूं कि सोशल मीडिया पर लोग अच्छी अच्छी बातें लिख देते है उनमें से कई को तो मैं जानता हूं कि वह अपने माता पिता का किस प्रकार ध्यान रखते है।
आप अपने बच्चे की बातों का बुरा मानते है, नहीं न। यदि मैं पूछ लूं क्यों तो आपका जवाब सीधा होगा….अरे वो मेरे बच्चे है उनकी बात का क्या बुरा मानना। तब आप और आपकी पत्नी क्यों मां-बाप की बात का बुरा मान जाते है तो आप कहेंगे ….अरे वो हमारी प्राइवेट बातों में टांग अड़ाते है, मैं फिर पूछ लू क्या यह आपके बच्चे नहीं करते है। तो आप जवाब देंगे …वो हमे बच्चा ही समझते है। मैं फिर पूछ लू आप अपने बच्चे की प्राइवेट बातों में टांग नहीं अड़ाते है आप का जवाब होगा, अरे हम उन्हें नहीं समझाएंगे तो कौन समझाएंगा। अब अंतर यही पर समझ लें, आप भी अपने बच्चों के साथ वहीं कर रहे है जो आप के मां बाप आपके साथ कर रहे है। अंतर यह है कि मां बाप की बातें आपको इसलिए बुरी लग रही है क्योंकि आप उन्हें अभी भी अभिभावक मान रहे है और बच्चों की बात इसलिए नहीं बुरी लग रही है क्योंकि आप अपने को बच्चों का माता पिता होने के साथ उनका अभिभावक भी मानते है।
जब आप पूरे घर की देखभाल कर रहे है तो आप सबके अभिभावक है। वो चाहे आपके बच्चे हो या माता पिता। जिस दिन आप अपने को अपने बूढ़े माता पिता का अभिभावक मान लेंगे और उन्हें अपने छोटे बच्चों की तरह समझने लगेंगे आप की सारी तकलीफें दूर हो जाएंगी। मैं यह बात कहीं से सुनी सुनाई नहीं कह रहा हूं। मुझे जानने वाले समझ जाएंगे कि मैंने यह बात अपने जीवन से निकाल कर आपको बताई है।
कई बार देखने में आता है कि 70 वर्ष की आयु तक पहुंच चुके माता-पिता बहुत बोलना शुरु कर देते है वह दरअसल ज्यादा इसलिए बोलते है क्योंकि वह आपका ध्यान अपनी अोर खींचना चाहते है। यह बिलकुल वैसे ही है जैसे एक छोटा बच्चा या मानसिक रूप से कमजोर बच्चे कुछ ऊंट पटाग हरकते करके लोगो का ध्यान अपनी अोर खींचते है। वो लोग जो 40 से 50 वर्ष की आयु में है वो भी उम्र का एक बड़ा पड़ाव पार कर चुके होते है और माता पिता की हर बात में सलाह देने की बात से उखड़ने लगते है, क्योंकि आप अपने से ज्यादा बड़ा सलाहकार किसी को नहीं समझते और बोलते रहने से आपकी भी सुनने की क्षमता कम होती जाती है। आप थके हुए होते है आफिस की टेंशन या काम लिए लौट रहे होते है और उनके हालचाल लेने को भी आप चिड़चिडा करके कुछ गलत तरीके से ले लेते है। सुबह सुबह आप बच्चों का हालचाल लेते है उस समय बच्चे भी आपसे कुछ इसी तरह व्यवहार करते है क्योंकि वह अपनी दुनिया में इसे आपका हस्तक्षेप समझते है, लेकिन आप तब भी उनसे सवाल पूछते है क्योंकि बच्चे आप पर निर्भर है इसलिए वह आपकी बात को न चाहते भी सुन लेते है। कभी कभी ऐसे लोग जिनके माता पिता ने अभी अपनी जमीन जायदाद का बंटवारा नहीं किया है या उनके नाम नहीं किया है ऐसे लोग दिखावे के लिए माता पिता के सामने ऊंची आवाज में नहीं बोलते है लेकिन दिल में जहर भरते ही जाते है। उन्हें यही समझना है कि यदि वह एक दो दिन भी बाहर चले जाते है तो उन्हें घर की इतनी ज्यादा याद क्यों आती है उन्हें घर की याद इसलिए आती है क्योंकि वह अपनी बातो को अपने बच्चों खासतौर पर पत्नी से नहीं कर पाते कभी कभी आप अपने दफ्तर की बहुत सारी ऐसी बातें पत्नी को बताते जाते है जिनके बारे में न आपकी पत्नी जानती है न वह यह जानती है कि आज आफिस में आपके बास ने क्या कहा, लेकिन आप बताते रहते है कि आपके साथ दफ्तर में आज क्या कुछ गलत हुआ है (जैसा आप समझते है) वह आप इसलिए बताते है जिससे पत्नी आपकी हां में हां मिला दे और आप अपने को संतुष्ट कर पाए कि आप आफिस में सही थे, और आफिस में आपका विरोधी गलत। यह सब होने के बाद ही आपको सुकून मिलता है अब इसी बात को अपने माता पिता की तरफ लाकर देखिए वो दिन भर घर पर रहते है बच्चों और आपकी पत्नी से तो थोड़ा थोड़ा करके दिनभर में बात कर ही लेते है जब बेटा लौटता है तो वह भी कुछ कहना समझना चाहते है। वह बताना चाहते है कि उन्होंने कैसे आज अमुक व्यकि्त को अच्छी सलाह दी या उनका कौन पुराना परिचत आज उन्हें सुबह टहलते या बाजार में मिल गया और उसकी लड़की की शादी कब हो रही है, वो दहेज में कार दे रहा है। आप सोचने लगते है कि पापा मुझे यह सब क्यों बता रहे है आप झुझलाकर उल्टा सीधा कुछ बोल देते है और बाद में पत्नी पर भी गुस्सा निकाल बैठते है, लेकिन आप यह नहीं सोचते कि पत्नी भी तो आपके आफिस की बातों पर वैसे ही प्रतिक्रिया दे सकती है जैसी आप अपने माता पिता की बात पर दे रहे थे।
आपको भी अपनी पत्नी से कला सीख लेनी चाहिए यदि माता पिता की बात पर बिना कोई अक्ल लगाए रिलेक्स भाव से आप उनकी बातों पर कोई जानकारी वाला प्रश्न पूछ लेंगे तो वह खुश हो जाएंगे वैसे ही जैसे आप जब अपनी पत्नी को आफिस का किस्सा बता रहे होते है तो वह कोई प्रश्न कर देती है…तो अग्रवाल साहब ने क्या कहां। आप उसके प्रश्न पूछने पर कितना आनंद से भर जाते है कि वो आपकी बात को सुन रही है। आप सुबह उठकर थोड़ी देर अखबार पढ़ते हुए माता पिता के कमरे में जाकर उनकी कुछ बात सुन लेंगे तो आपका कुछ नहीं बिगडेगा लेकिन आपके माता पिता सुबह की इस दवा से पूरे दिन खुश रहेंगे।
मैं लगभग 25 वर्षों से पत्रकारिता में हूं, जब मैं गाजियाबाद में एक बड़े अखबार में रिपोटिंग का इंचार्ज था तो मेरे पिता सुबह तड़के ही अखबार पढ़ लिया करते थे रात में देर से आने के कारण मैं देर से ही सोकर उठता था इंचार्ज होने के कारण घर में कई अखबार आते ही थे, एक बार उन्होंने मुझे एक खबर के बारे में बताना शुरू किया मैं हां में हां मिलाता चला गया और वह बताते रहे। बात पूरी होने के बाद मेरी पत्नी ने पूछा यह तो आपकी ही लिखी खबर हैं तो मैं हंस दिया और बोला …उन्हें मेरी खबर अच्छी लगी और उन्होंने इतनी महत्वपूर्ण समझी कि यह जानते हुए कि मैं इसी अखबार को निकालता हूं, मुझे बताई मैं यह बताकर कि यह मैंने लिखी है मैं उनका और अपना रोमांच खत्म नहीं करना चाहता था। यहां पर मैने इस किस्से का जिक्र इसलिए किया क्योंकि मैं लोगों से आग्रह करना चाहता हूं कि आपके माता पिता बड़ी बड़ी खुशिया नहीं चाहते है वो छोटी छोटी बातों से ही खुश हो जाते है।                                                     मुझे बहुत ऐसे सारे लोग मिलते है जो कहते है कि हम अपने माता पिता के अविभावक कैसे बने। माता पिता खाने में बद-परहेजी करते है, कुछ भी खा लेते है और कुछ कहने पर अपने माता पिता होने का पूरा फायदा उठा लेते है और बात बात पर कहने लगते है कि अब तुम हमें सिखाअोगे। तुमको हम ने ही पाला है। मेरा इस बारे में कहना है कि जब आपका संवाद अपने माता पिता से अच्छा होगा और आप उनका हमेशा खयाल रखेगे ऐसा उन्हें विश्वास होगा तो वह आपकी प्यार भरी डांट को भी स्वीकार कर लेंगे। उदाहरण के लिए यदि आप उनसे कहेगे कि आप का पेट फला चीज खाने से खराब हो जाता है तो आज से वो चीज घर में कोई नहीं खाएंगा। तो वह अवश्य पलट कर कहेंगे कि ठीक है मैं नही खाऊंगा घर में बनती रहे। इसी प्रकार यदि आपकी कोई बात वो नहीं मानते है और आपको उनकी चिंता है तो डाक्टर को दिखाने ले जाते समय आप कागज पर डाक्टर के नाम कुछ लिखकर ले जाए कि पापा पकौडी खा लेते है और पेट खराब हो जाता है डाक्टर बिना उन्हे बताए आपसे उनके सामने कह देगा कि इन्हें पकौड़ी मत खाने दीजिएगा। तब आपके पास डाक्टर की सलाह नाम का एक हथियार हो जाएगा जिससे आप उनका खयाल अभिभावक बनकर कर सकेंगे। जैसे छोटे बच्चे को हम डाक्टर से नहीं डरवाते है कि यदि तुम आइसक्रीम खाअोगे तो डाक्टर अंकल तुम्हे सुई लगा देंगे।      माता पिता का अभिभावक बनने के लिए सबसे जरूरी चीज है संवाद। यही वो कड़ी है जिससे आप हमेशा अपने माता पिता को अपने दिल के करीब रख सकते है। संवादहीनता ही सबसे बड़ी समस्या है, मैं देखता हूं कि आज कई परिवारों में बच्चे माता-पिता की थोड़ी सी चुभती बात को अपने दिल में लगाकर बैठ जाते है उनसे वैसा व्यवहार करते है जैसे वो कोई रिश्तेदार हो। ऐसे लोग अपने बच्चों के सामने ही उनके दादा-दादी के बारे में जो बातें करते है उससे वह अपने ही बच्चों को अनजाने में वो शिक्षा दे देते है जिसका परिणाम उन्हें आगे भुगतना पड़ सकता है।
कई बार लोग मुझे बताते है कि वह तो अपने माता-पिता का खयाल करते है लेकिन वह हमेशा उनके भाई या बहनों की तारीफ करते रहते है। तो मैं उन्हें समझाता हूं कि कई बार बूढ़े माता-पिता को कही न कही यह लगता रहता है कि जब एक बच्चा इतना ख्याल रख रहा है तो दूसरे बच्चे हो सकता है इससे भी ज्यादा ख्याल रख सकते हो जैसे कहते है कि दूर के ढोल सुहाने लगते है यह कहावत इसी बात पर बिलकुल सटीक बैठती है। ऐसे में आप जब तक माता-पिता को असलियत से वाकिफ नहीं कराएंगे तब तक उनकी इस आदत में आप सुधार नहीं कर सकते। ऐसे में कभी उनसे यह बात मत कहे कि हम आप का ज्यादा ध्यान रखते है, कोशिश करे कि आप उन्हें प्रेरित करें कि कुछ दिन हवा पानी बदलने के लिए बड़े या छोटे भाई के यहां भी हो आए वो आप को मिस करते होंगे। माता पिता जो आपके अन्य भाइयों की ताऱीफ में कसीदे पढ़ रहे होगे तुरंत ही तैयार हो जाएंगे। यकीन मानिए भले ही आप के भाई उनका कितना भी ख्याल क्यों न रखे थोड़े दिनों में उन्हें आपके घर की याद सताने लगेगी और फिर आपकी यह शिकायत हमेशा के लिए दूर हो जाएंगी।
बहुत सारे लोगों को अपने बूढ़े माता पिता से शिकायत रहती है कि वो हमेशा घर पर हर किसी को टोकते रहते है, इसका कारण साफ है उनके पास अपना टाइम पास करने के लिए कोई और तरीका नहीं है, आप को करना सिर्फ इतना है कि आप उन्हें किसी ऐसे कार्य में व्यस्त करे जो उनकी पसंद का हो या उनको किसी संस्था या क्लब में संलग्न करें। आप की थोड़ी देर की मेहनत उनकी और आपकी सारी तकलीफ दूर कर देंगी। एक बात और जब अपने को माता पिता का अभिभावक समझे तो पत्नी के साथ के लिए, पत्नी के माता पिता को भी इज्जत दे। यदि किसी मुकाम पर पत्नी के माता पिता अकेले हो तो उन्हें घर लाकर अपने माता पिता की तरह ही इज्जत दे। तभी आपकी पत्नी आपको अपने माता पिता का अभिभावक बनने में सहायक होगी।

लेखक वरिष्‍ठ पत्रकार हैं

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.