उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग को लेकर कई तरह की अटकलें हो रही है। कुछ रिपोर्ट्स में जहां उनकी मौत का दावा किया जा रहा है तो कुछ रिपोर्ट में उन्हें तंदुरुस्त होकर घूमते हुए बताया जा रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स में ऐसा दावा किया जा रहा है कि हार्ट सर्जरी के बाद किम जोंग उन की या तो मौत हो गई है या फिर वह अपनी चेतना खो चुके हैं। रिपोर्ट में यह दावा जा रहा है कि तानाशाह किम जोंग के इलाज के लिए चीन से डॉक्टरों की टीम उत्तर कोरिया गई थी।

हांगकांग सैटेलाइट टीवी (एकचेएसटीवी) के वाइस डायरेक्टर शिजियान जिंग्जू ने दावा किया कि उन्हें काफी करीबी सूत्र ने बताया है कि किम को मौत हो चुकी है। इससे पहले, जापान की मैग्जीन ने यह दावा किया कि किम जोंग चेतना खो चुके है।

हालांकि, पूरे मामले पर दुनियाभर में चुप्पी है क्योंकि प्योंगयांग की मीडिया किम जोंग की हालत और उनके ठिकाने के बारे में पूरी तरह से मौन धारण किया हुआ है। हालांकि, एक तरफ जहां किम जोंग की मौत को लेकर कोई प्रमाणिक तौर पर पुष्टि नहीं हुई है लेकिन वह ट्वीटर पर #KimJongUndead ट्रेंड कर रहे हैं।

जापान की मैग्जीन में यह दावा किया गया है कि इस महीने की शुरुआत में किम जोंग एक बार चक्कर खाकर गिर पड़े थे। मैग्जीन ने यह बताया कि पूरी स्थिति पर नजर रखने वाले चीन के मेडिकल एक्टपर्ट टीम ने उन्हें बताया था कि स्टंट डालने की जरूरत थी जो या तो देरी से डाली गई या फिर गलत तरीके से, जिसके चलते और अधिक समस्याएं बढ़ गई।

इस हफ्ते की शुरुआत में कथित तौर पर अमेरिकी खुफिया अधिकारियों ने उनके स्वास्थ्य की मॉनिटरिंग की जिन्हें ऐसा माना जा रहा है कि यह बताया गया कि किम जोंग कार्डियोवेस्कुलर ऑपरेशन के बाद खतरे में है।

पूर्व सीआईए डिप्टी डिविजन चीफ फॉर नॉर्थ कोरिया ब्रुस क्लिंगनेर ने सीएनएन को यह बताया कि कि किम जोंग के खराब स्वास्थ्य के बारे में पीछे जितनी भी अटकलें लगाई गई वो सारी गलत साबित हुई थी ऐसे में वहां की सीक्रेसी के चलते बातों को प्रमाणिक तौर पर साबित कर पाना बहुत मुश्किल है।

उन्होंने यह बताया कि किम के स्वास्थ्य के बारे में हाल में कई तरह की रिपोर्ट में दावा किया गया। अगर किम अस्पताल में भर्ती हैं तो क्यों वह 15 अप्रैल के विशेष दिन पर मौजूद नहीं हुए। लेकिन, वर्षों से किम जोंग और उनके पिता के बारे में मौत की गलत अटकलें लगाई जाती रही है। इसकी वजह से हमें इंतजार कर देखना होगा। किम इससे पीछे सरकारी बैठक के दौरान 11 अप्रैल को दिखे थे।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.