rajnathकेन्द्र में अपने से जूनियर साथियों को मंत्री बने देख पाल के सब्र का बांध अब टूट चला है। बेनी सलमान और खुर्शीद जैसे लोगों को तरजीह मिलना पाल को कई साल से कांटे की तरह खटक रहा था। ऐन चुनाव के वक्त के यह दर्द जब हद से गुजर गया तब उन्होंने राजनाथ से जख्म पर मरहम लगाने की आस जगी। कुछ दिनों से कांग्रेस को पानी पी पी कर कोसने वाले जगदंबिका पाल अब कांग्रेस छोड़ बीजेपी में शामिल हो रहे हैं। बहुत जल्द ही इसकी औपचारिकता भी पूरी कर ली जाएगी। उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एव प्रदेश सरकार में मंत्री रहे पाल कांग्रेस के तेज तर्रार नेता माने जाते रहे हैं।
दिग्गज कांग्रेसी नेता जगदंबिका पाल बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह से कई बार मिल चुके हैं। पाल ने यूपी से चुनाव लडऩे की इच्छा जाहिर की है। आम चुनाव नजदीक हैए लिहाजा गठबंधन टूटन.बननेए पार्टी छोडऩे और दूसरी पार्टी में शामिल होने का सिलसिला जोरों पर है। इसी कड़ी में कांग्रेस के कद्दावर नेता और सांसद जगदंबिका पाल के पार्टी छोडऩे की सुगबुगाहट तेज है। हालांकि जगदंबिका का कहना है कि अभी उन्होंने कोई निर्णय नहीं लिया है  लेकिन 1989 से 2014 तक मैंने सब्र किया। खराब वक्त में भी मैं कांग्रेस का विधायक सांसद चुना जाता रहा। यह भी सोचिए कि जब बुरे वक्त में कांग्रेस को नहीं छोड़ा तो अब मैं इतनी जल्दी क्या सोच सकता हूं। मुझसे छह जूनियर लोग केंद्र में मंत्री हैं। बेनी सलमान खुर्शीद श्री प्रकाश जायसवाल भी मुझसे जूनियर हैं। पांच साल तक संसद में कांग्रेस को डिफेंड करता रहा। ऐसे में मुझे नेतृत्व का विश्वास तो मिलना चाहिए था। यह वहीं जगदम्बिका हैं जो अपने कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़वा चुके हैं।

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.