3 मई को खत्म होने वाले लॉकडाउन से लगभग एक सप्ताह पहले 27 अप्रैल को ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सभी मुख्यमंत्रियों के साथ इसकी समीक्षा करेंगे। कोरोना काल में लॉकडाउन लगने के बाद मुख्यमंत्रियों के साथ यह पीएम मोदी की तीसरी चर्चा होगी। वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार 24 अप्रैल को देश की ग्राम पंचायतों को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये संबोधित करेंगे।

माना जा रहा है कि इसमें मुख्यमंत्रियों से उनके संबंधित राज्यों में हुए असर पर उनका फीडबैक लिया जाएगा और सामान्य कामकाज शुरू करने पर रायशुमारी होगी। सूत्रों के अनुसार केंद्र सरकार को भरोसा है कि 3 मई तक कुछ राज्यों में स्थिति में काफी सुधार आ जाएगा। वैज्ञानिकों का भी यही मानना है कि अप्रैल के बाद से कोरोना के ग्राफ में गिरावट आएगी।

देश में लॉकडाउन को लेकर बेचैनी बढ़ी 

पिछले कुछ दिनों में राज्यों ने सख्ती से नियम का पालन शुरू किया है और केंद्रीय टीम ने भी चार राज्यों में निरीक्षण शुरू कर दिया है। वहीं देश में अब लॉकडाउन को लेकर थोड़ी बेचैनी बढ़ रही है। ऐसे में आगामी रविवार को देश के साथ मन की बात साझा करने के दूसरे दिन प्रधानमंत्री मुख्यमंत्रियों से रूबरू होंगे।

महाराष्‍ट्र और पश्चिम बंगाल में राजनीति गरमाई 

गौरतलब है कि इस बीच महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल जैसे कुछ राज्यों में राजनीति भी गरमाई है। पश्चिम बंगाल ने जहां महामारी नियंत्रण के मुद्दे पर भी कर्तव्य की बजाय अपने अधिकार की बात छेड़ दी। वहीं महाराष्ट्र किसी भी तरह प्रवासी लोगों को महाराष्ट्र से बाहर भेजने की जिद पर अड़ा है और इसीलिए बार बार ट्रेन चलाने की माग कर रहा है। सूत्रों की मानी जाए तो 3 मई के बाद भी सार्वजनिक यातायात शुरू करना तो मुश्किल होगा लेकिन रेड जोन को छोड़कर बाकी में अंतरराज्यीय या अंतरजिला परिवहन की इजाजत दी जा सकती है। ऐसे में उद्योग जगत के लिए भी राह बनेगी। बहरहाल, यह फैसला राज्यों से विचार विमर्श और आखिरी समय तक स्थिति का आकलन करने के बाद ही लिया जाएगा।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.