न्यूयॉर्क में संक्रमण एशिया से आए यात्री नहीं बल्कि संभवत: यूरोप से आए यात्री लेकर आए। एक अमेरिकी अखबार की रिपोर्ट में कहा गया कि न्यूयॉर्क में, कोविड-19 का पहला मामला एक मार्च को सामने आया था, लेकिन यह राज्य में फरवरी मध्य से ही फैलना शुरू हो गया था। इस अध्ययन के सह शोधकर्ता माउंट सिनाई में इचान स्कूल ऑफ मेडिसिन में जिनेटिक विशेषज्ञ हर्म वान बकेल ने कहा, ‘बहुसंख्यक लोग साफ तौर से यूरोप से आए यात्री हैं।’

न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी के ग्रॉसमैन स्कूल ऑफ मेडिसिन के एक अन्य अध्ययन में भी कुछ इसी तरह के निष्कर्ष निकले हैं। राष्ट्रपति ट्रंप ने 31 जनवरी को चीन से लौटे विदेशी नागरिकों के देश में प्रवेश पर रोक लगाई थी लेकिन अधिकतर यूरोपीय देशों से आए यात्रियों के प्रवेश पर रोक 11 मार्च को लगाई गई थी। अगर यूरोप देश भी रोक के दायरे में होते तो हालात ऐसे नहीं होते।

वहीं, अमेरिका में कोरोना वायरस के मामलों की संख्या बढ़कर 4.40 लाख से अधिक हो गई है और करीब 15 हजार लोग इस संक्रमण के कारण जान गंवा चुके हैं। अकेले न्यूयॉर्क में कुल 1.51 लाख से अधिक मामलों की पुष्टि हुई है और 6,268 लोगों की मौत हो चुकी है। न्यूयॉर्क के गवर्नर एंड्रयू कुओमो ने कहा कि महामारी स्थिर होती दिखाई दे रही है। गवर्नर ने कहा कि मौत में वृद्धि के बावजूद, सामाजिक प्रतिबंधों के कारण अस्पताल में भर्ती होने वाले मरीजों की संख्या में कमी आ रही है। अमेरिका के शीर्ष संक्रामक रोग विशेषज्ञ डॉ. एंथनी फॉसी ने कहा कि लोगों को अब एक-दूसरे से हाथ मिलाने की आदत बदल लेनी चाहिए।

ट्रंप बोले, कोविड-19 के खिलाफ रणनीति काम कर रही है

अमेरिका राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने बुधवार को देश को आश्वस्त करते हुए कहा कि ऐसे संकेत हैं कि महामारी को रोकने के लिए अपनाई गई आक्रामक रणनीति सही काम कर रही है और नए मामलों की संख्या में स्थिरता आ रही है।

ब्रिटेन ने भी भारत का आभार जताया

कोरोना से जूझ रहे देशों को इलाज में आवश्यक दवाओं के निर्यात को मंजूरी देने के भारत के फैसले की चहुंओर प्रशंसा हो रही है। अमेरिका, ब्राजील के बाद अब ब्रिटेन ने भी भारत का आभार जताया है। भारत में ब्रिटेन की कार्यवाहक उच्चायुक्त जेन थॉम्पसन ने गुरुवार को ट्वीट किया, ब्रिटेन को पेरासिटामोल दवा के निर्यात की मंजूरी देने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारत सरकार का आभार।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.