उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने आज गुरुवार से 15 जिलों में 104 हॉटस्पॉट को पूरी तरह से सील कर दिया है जहां कोरोना वायरस का संक्रमण सबसे ज्यादा है। इन सील किए गए हॉटस्पाॅट इलाकों में किसी को भी जाने की अनुमित नहीं मिला। किसी को घर से नहीं निकलने दिया गया। चारों तरह सन्नाटा पसरा रहा। जिला प्रशासन के लोग इल सील इलाकों में जरूरत का सामान पहुंचा रहे थे। वहीं नोएडा के सेक्टर आठ में ड्रोन से सेनेटराइज किया गया। कुछ जिलों से यह भी शिकायत आई कि उन्हें प्रशासन ने जरूरत का सामान नहीं पहुंचाया। गाजियाबाद नंदग्राम के दीन दयालपुरी 30 फुटा रोड पर सील की गई कॉलाोनियों से लोगों की शिकायत रही कि उन्हें दूध नहीं मिला।

इसी बीच प्रदेश के  अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी का कहना है कि सील किए गए इलाको में लोगों के दरवाजे तक दूध, सब्जी जैसी आवश्यक चीजों को पहुंचाने का प्रयास किया गया है। इन इलाकों में से किसी को भी निकलने नहीं दिया गया। पुलिस की ्गश्त भी बढ़ा दी गई है।

आइए जानते हैं कैसा रहा सील होने के बाद पहला दिन :

लखनऊ : 

डॉक्टर नाज़िया के घर के आसपास का इलाका विजय खंड, कैफ़ अली आब्दी के घर के आसपास का इलाका इंदिरानगर, डॉक्टर तौसीफ हैदर के घर के आसपास का इलाका अलीना एंक्लेव खुर्रम नगर, यश ठाकुर के घर के आसपास का इलाका विशालखंड आंशिक रूप से सील, मस्जिद अलीजान ,सदर , मोहम्मदी मस्जिद अस्तबल, फूलबाग मस्जिद कैसरबाग, मोहम्मदिया मस्जिद, मुजम्मिल नगर सहादतगंज, लाल मस्जिद  आलमनगर तालकटोरा, नजरबाग मस्जिद कैसरबाग, खजूर वाली मस्जिद त्रिवेणी नगर, अली हयात मस्जिद फैजुल्लागंज मड़ियाव और रजौली मस्जिद ,गुडंबा को सील किया गया था। यहां सुबह से ही पुलिस पूरी तरह से मुस्तैद थी। जो भी बाहर निकल रहा था उसे अंदर भेज दिया जा रहा था।

कानपुर के कुलीबाजार अतिसंवेदनशील, पुलिस के रोकने पर भी नहीं माने 

जिला प्रशासन की ओर से हलीम चौराहा कुलीबाजार अतिसंवेदनशील बताकर सील किया गया था। यहां के कुलीबाजार में तो स्थिति यह थी कि लोग पुलिस की भी नहीं सुन रहे थे।  पुलिस के रोकने पर भी लाेग निकले।

गाजियाबाद : दूध नहीं मिलने से सबसे ज्यादा हुई परेशानी
नंदग्राम के दीन दयालपुरी 30 फुटा रोड पर कोरोना पॉजीटिव मिलने के बाद पुलिस और प्रशासन ने कॉलोनी को सील कर दिया। कॉलोनी की कुल 12 गलियां सील की गई है। इनमें 650 घरों में 35सौ लोग रहते हैं। सुबह पुलिस ने लोगों से घरों रहने की अपील की। साथ ही भरोसा दिया कि सब्जी, दूध और राशन की दिक्क्त नहीं होने दी जाएगी। हालांकि कुछ लोगों को सब्जी और दूध नहीं मिल सका।  इस कारण उन्हें परेशानी झेलनी पड़ी। गलियां सील होने के बाद लोग घरों से सामान लेने के लिए बाहर नहीं जा सके। पुलिस या प्रशासन के माध्यम से घरों पर सामान भेजने की व्यवस्था कराई गई। पार्षद माया देवी ने बताया कि सील की सभी गलियों में रहने वाले लोगों के नाम, पता और मोबाइल नंबर लेकर सूची तैयार की जा रही है। इसके बाद इन सभी लोगों को प्रशासन की हेल्पलाइन नंबर और सैक्टर मजिस्ट्रेट का नंबर मुहैया कराया जाएगा ताकि कोई परेशान होने पर मदद मिल सके। पार्षद ने बताया कि क्षेत्र को सेनेटाइज कराया जा रहा है। वहीं सुबह के समय घरों से निकले लोगों को पुलिस ने चेतावनी देकर घरों में रहने की नसीयत दी।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.