उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अंत्योदय की भावना की दूरदृष्टि से यूपी में कोई भी व्यक्ति भूखा नहीं सो सकता है। मुख्यमंत्री ने रविवार को फैसला किया कि विश्वकर्मा श्रम सम्मान की 15 श्रेणियों में आने वाले नाई, दर्जी, मोची, कुम्हार, लोहार, बढ़ई दर्जी आदि के खाते में भी एक-एक हजार रुपये डाले जाएंगे। मुख्यमंत्री के निर्देश पर करीब 2 लाख परिवारों को भरण पोषण के रूप में 1000 हजार रुपये भत्ता तत्काल जारी किए जाएंगे। साथ ही सरकार इन्हें राशन भी मुहैया करवाएगी।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि अंत्योदय की भावना के साथ सभी लोगों को भोजन उपलब्ध करवाने के लिए हमारी सरकार कार्य कर रही है। विश्वकर्मा श्रम सम्मान के तहत आने वाले शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों के बढ़ई, दर्जी, टोकरी बुनने वाले, नाई, सुनार, लोहार, कुम्हार, हलवाई, मोची जैसे 2 लाख परिवार हैं। इसमें सरकार के पास 30,000 परिवारों का विवरण हैं। इनके भरण-पोषण के लिए एक हजार रुपये का भत्ता तत्काल जारी किया जाएगा। इन्हें राशन भी सरकार की तरफ से दिया जाएगा।

कोविड-19 के चलते मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर सरकार की तरफ से भरण-पोषण भत्ता के रूप में प्रत्येक गरीब के बैंक अकाउंट में एक हजार रुपए भेजा जा रहा है। इसी क्रम में अब मुख्यमंत्री ने विश्वकर्मा श्रम सम्मान के सभी लाभार्थियों को एक हजार रुपए भत्ता देने का निर्देश जारी किया है।

रिपोर्ट :मोरज राठौर

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.