नईदिल्ली,06 अपै्रल (आरएनएस)। कोरोनावायरस महामारी के खिलाफ लड़ाई में अपना समर्थन बढ़ाते हुए, पेप्सिको इंडिया ने स्वास्थ्य सेवा और डायनोस्टिक सुविधाओं के लिए 25,000 टेस्ट किट उपलब्ध कराने का प्रण लिया है। इसके अलावा, कंपनी ने कोरोनोवायरस के प्रकोप से प्रभावित परिवारों का समर्थन करने के लिए 50 लाख से अधिक भोजन देने को लेकर भी प्रतिबद्धता जाहिर की है।
कंपनी ने अपने एक बयान में कहा, पेप्सिको की परोपकारी शाखा पेप्सिको फाउंडेशन के साथ पेप्सिको इंडिया ने कोविड-19 के प्रकोप से प्रभावित परिवारों को सहायता देने के लिए 50 लाख से अधिक भोजन उपलब्ध कराने को लेकर प्रतिबद्धता जताई है। यह पहल पेप्सिको की हैशटैगगिवमिल्सगिवहॉप वैश्विक कार्यक्रम का हिस्सा है। कंपनी 25,000 कोविड-19 टेस्ट किट प्रदान कर महामारी से लडऩे के प्रयासों में सहायता करते हुए स्वास्थ्य सेवा और डायग्नोस्टिक सुविधाओं के लिए भी सहायता प्रदान कर रही है।
पेप्सिको इंडिया अक्षय पात्र फाउंडेशन के साथ मिलकर अपनी सेंट्रलाइज्ड रसोई के माध्यम से अछूते समुदायों को वहां के स्थानीय अधिकारियों के साथ मिलकर बना बनाया भोजन उपलब्ध करा रहे हैं। कंपनी कोविड-19 के प्रकोप से प्रभावित 8,000 से अधिक गरीब परिवारों के लिए राशन का सामान उपलब्ध कराने के लिए स्माइल फाउंडेशन के साथ काम कर रही है।
वहीं टेस्टिंग कीट के लिए पेप्सिको इंडिया ने फाउंडेशन फॉर इनोवेटिव न्यू डायग्नोस्टिक (एफआईएनडी) के साथ साझेदारी की है।
एफआईएनडी एक गैर-लाभकारी संगठन है। यह विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) का प्रयोगशाला सु²ढ़ीकरण और डायग्नोस्टिक प्रौद्योगिकी मूल्यांकन सहयोग केंद्र भी है। यह केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के साथ मिलकर काम करता है। कंपनी ने कहा, इन टेस्टिंग किट्स को कोविड-19 टेस्ट के लिए भारत सरकार द्वारा प्रमाणिक सार्वजनिक और निजी हेल्थकेयर प्रयोगशालाओं में भेजा जाएगा।
पेप्सिको इंडिया के अध्यक्ष अहमद एलशेख ने कहा, पूरी दुनिया की तरह भारत भी चुनौती का सामना कर रहा है। कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में हम पेप्सिको इंडिया देश का सहयोग करने के लिए पूरी तरह से समर्पित हैं। आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों को भोजन उपलब्ध कराना और डायग्नोस्टिक सेंटर्स को टेस्ट किट उपलब्ध कराना वर्तमान समय की महत्वपूर्ण आवश्यकताएं हैं।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.