देश में कोरोना वायरस का प्रकोप तेजी से बढ़ते जा रहा है और हर दिन कोविड-19 के मामलों में बड़ा इजाफा देखने को मिल रहा है। कोरोना संकट के इस दौर में खतरनाक महामारी के कहर से लोगों की जान बचाने के लिए स्वास्थ्यकर्मी अपनी जान की बाजी लगा कर डटे हुए हैं, मगर कुछ लोग हैं कि उन पर पत्थर बरसा रहे हैं और थूक रहे हैं। ताजा मामला मध्य प्रदेश के इंदौर का है, जहां कोरोना वायरस के मद्देनजर एक बुजुर्ग महिला की स्क्रीनिंग करने गए स्वास्थ्य कर्मियों की टीम पर पत्थर बरसाए गए और उन्हें दौड़ा-दौड़ा कर मारा गया है। बता दें कि इससे पहले भी कोरोना लॉकडाउन में स्वास्थ्यकर्मियों और पुलिस की टीम पर देश के अलग-अलग हिस्सों से हमले की खबर आ चुकी है।

दरअसल, घटना इंदौर के टाट पट्टी बाखल इलाके की है, जहां स्वास्थ्य कर्मियों पर पथराव किया गया। दरअसल, बुधवार को इंदौर के टाट पट्टी बाखल इलाके में कोरोना वायरस से संदिग्ध एक बुजुर्ग महिला का मेडिकल चेकअप करने के लिए स्वास्थ्य कर्मियों की टीम, जिसमें डॉक्टर, नर्स और आशा कार्यकर्ता शामिल थे, लाने आई थी, जिसका वहां के लोगों ने विरोध किया और लोगों ने पथराव कर दिया। उन्होंने लाठी-डंडों से उनका पीछा किया और फिर किसी तरह स्वास्थ्यकर्मियों की टीम जान बचाते भागी। बता दें कि यह घटना ऐसे वक्त में हुई है जहां पूरा देश डॉक्टरों के लिए तालियां बजा रहा है और उनके योगदान को सराह रहा है, मगर वहीं कुछ लोग इन्हें गालियां भी दे रहे हैं और पत्थर भी मार रहे हैं।

समाचार एजेंसी ने इसका एक वीडियो भी जारी किया है, जिसमें साफ देखा जा सकता है कि कैसे स्वास्थ्य कर्मियों की टीम पर भीड़ हमला करने के लिए दौड़ती दिख रही है। लाठी-डंडे के साथ भीड़ टीम पर हमला करती है और उसके बाद किसी तरह स्वास्थ्यकर्मी वहां से जान बचाकर भागते हैं। दरअसल, वीडियो में कुछ अपशब्द का इस्तेमाल किया गया है, इस वजह से हम उसे नहीं दिखा सकते। पत्थरों से हमला करने वाले लोगों ने बैरिकेड भी तोड़ा।

हाालंकि, इस घटना के बाद पुलिस पहुंची। पुलिस की सख्ती के बाद उपद्रवी माने और पुलिस ने कुछ लोगों पर केस भी दर्ज किया है। बताया जा रहा है कि स्वास्थ्यक र्मियों की टीम उस संदिग्ध व्यक्ति की पहचान के लिए आई थी, जो कोरोना वायरस संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आया था। बता दें कि इंदौर में कोरोना वायरस के मामलों में लगाता इजाफा हो रहा है और यह आंकड़ा 75 हो गया है। बुधवार को मध्य प्रदेश के इंदौर में कोरोना वायरस के 12 नए मामले सामने आए, जिसके बाद पूरे राज्य में यह आंकड़ा 98 हो गया है।

जमातियों ने स्वास्थय कर्मियों पर थूका
दरअसल, यह पहला मामला नहीं है, जिसमें कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में अगली कतार में खड़े स्वास्थ्य कर्मियों के साथ बदसलूकी की घटना हुई है। इससे पहले दिल्ली के मरकज में तबलीगी जमाती के लोगों ने भी स्वास्थ्य कर्मियों पर थूका। दक्षिण-पूर्वी दिल्ली में रेलवे के पृथक केंद्रों में रखे गए तबलीगी जमात के कार्यक्रम से जुड़े करीब 160 लोगों ने उनकी जांच कर रहे डॉक्टरों और स्वास्थ्य कर्मियों के साथ दुर्व्यवहार किया और यहां तक कि उनपर थूका भी।

तबलीगी जमात के 189 लोग कोरोना वायरस पॉजिटिव
कोरोना वायरस के डर के बीच दिल्ली के निजामुद्दीन में स्थित तबलीगी जमात के मरकज का मामला लगातार गंभीर होता जा रहा है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुधवार को बताया कि जमात के कार्यक्रम के कारण कोरोना वायरस संक्रमण के मामले बढ़े हैं। 24 घंटों में सामने आए संक्रमण में से 189 मामले तबलीगी जमात में शामिल लोगों के हैं। वहीं, मरकज में शामिल लोगों की तलाश में देशभर में तलाशी अभियान चलाया जा रहा है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.