modiगोरखपुर में भाजपा की रैली के बाद नरेन्द्र मोदी की देश भर में धूम है। प्रधानमंत्री के पद के उम्मीदवारों में अन्य नरेन्द्र मोदी के मुकाबले सब बहुत पीछे हैं। सर्वे बता रहे हैं कि कांग्रेस सत्ता से बाहर होगी और भाजपा और सहयोगी दल भी अपने बूते सरकार नहीं बना पाएंगे। दरअसल हाल ही में नीलसन की ओर से पोल करवायाए इस ओपिनियन पोल के मुताबिक अगर अभी चुनाव हुए तो प्रदेश में भाजपा सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरेगी, जबकि समाजवादी पार्टी और कांग्रेस को भारी नुकसान होगा। हालांकि बसपा को भी फायदा होता नहीं दिख रहा है लेकिन उसे समाजवादी पार्टी की तुलना में थोड़ा कम नुकसान होगा। दिल्ली विधानसभा चुनाव में सफलता का परचम लहराने वाली आम आदमी पार्टी भी उत्तर प्रदेश में ज्यादा असरदार साबित होती नहीं दिख रही है। एक न्यूज चैनल और नीलसन सर्वे की मानें तो यूपी में आप एक या दो सीटें जीत सकती है। उत्तर प्रदेश को लेकर इंडिया टुडे और सी वोटर ने भी सर्वे कराया है। इसमें भी यूपी में मोदी का जादू चलता दिख रहा है। यह सर्वे राहुल गांधी के लिए भी राहत लेकर आया है। अमेठी में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को आप के नेता कुमार विश्वास से किसी प्रकार का खतरा नहीं होने की बात कही गई है। उत्तर प्रदेश को लेकर इंडिया टुडे और सी वोटर ने भी सर्वे कराया है। इसमें भी यूपी में मोदी का जादू चलता दिख रहा है। यह सर्वे राहुल गांधी के लिए भी राहत लेकर आया है। अमेठी में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को श्आपश् के नेता कुमार विश्वास से किसी प्रकार का खतरा नहीं होने की बात कही गई है। उत्तंर प्रदेश की ८० सीटों में से ३५ पर भाजपा को जीत मिलेगी। पिछले लोकसभा चुनाव की तुलना में भाजपा को २५ सीटों फायदा होगा। समाजवादी पार्टी को इस बार सिर्फ १४ सीटों पर ही जीत मिलेगी। पिछले चुनाव में उसे २३ लोकसभा सीटों पर जीत मिली थी। बसपा को २०१४ आम चुनाव में १५ सीटें मिलने का अनुमान जताया गया है, पिछली बार उसे २० सीटों पर जीत मिली थी कांग्रेस को अगले लोकसभा चुनाव में सिर्फ १२ सीटें मिलती दिख रही हैं, जबकि २००९ में उसे २१ सीटें मिली थीं। आरएलडी को इस बार सिर्फ २ सीटों पर जीत मिलती दिख रही है, जबकि पिछले चुनाव में उसे ५ सीटों पर जीत मिली थी। आम आदमी पार्टी को उत्त र प्रदेश में २ सीटों पर जीत मिलने की बात कही गई है। नीलसन के सर्वे में यूपी के बाद अब बिहार में भी बीजेपी की लहर दिख रही है। सर्वे के मुताबिकए बिहार में अगर अभी चुनाव होते हैं तो बीजेपी को 24 सीटों पर जीत मिल सकती है। वहीं जेडीयू को सबसे ज्यादा नुकसान होता दिख रहा है। सर्वे के मुताबिक जेडीयू को सिर्फ 6 सीटें मिल सकती हैं। सर्वे के मुताबिकए अगर अभी चुनाव हुए तो नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू को जबर्दस्त नुकसान होगा। 2009 के चुनावों में 20 सीटों पर जीत हासिल करने वाली पार्टी जेडीयू को इस बार सिर्फ 6 सीटें मिलने की संभवना जताई गई है। यानी नीतीश की पार्टी को 14 सीटों का नुकसान हो रहा है और इसका सीधा फायदा बीजेपी को मिलता दिख रहा है। राज्य की कुल 40 सीटों में से 24 सीटें बीजेपी झटक सकती है। यानी प्रदेश में मोदी के मैजिक से 13 सीटों का फायदा हो सकता है।खास बात यह है कि पिछले विधानसभा चुनाव में हाशिए पर धकेल दी गई लालू प्रसाद की पार्टी आरजेडी को भी इस बार 5 सीटों पर जीत मिल सकती है। पिछली बार आरजेडी को 4 सीटों पर जीत हासिल हुई थी। यानी उसे 1 सीट का फायदा होता दिख रहा पिछले चुनाव में खाता खोलने से चूक गई रामविलास पासवान की पार्टी एलजेपी के लिए इस बार अच्छी खबर है। यह पार्टी इस बार एक सीट पर जीत दर्ज कर सकती है। लंबे से समय से बिहार में वजूद की तलाश करती कांग्रेस के लिए इस बार भी राहत की खबर नहीं है। सर्वे के मुताबिक इस बार उसे 2 सीटें मिल सकती हैं। यानी कांग्रेस जहां थी वहीं रहेगी। पिछले चुनावों में भी कांग्रेस को 2 सीटों पर जीत मिली थी। 2 सीटें अन्य के खाते में जाने की संभावना है। सर्वे के मुताबिक बीजेपी के वोट शेयर में भी जबर्दस्त बढ़ोतरी होगी। बीजेपी अपना वोट शेयर करीब.करीब ढाई गुना करने कामयाब रहेगी। पिछले लोकसभा चुनाव में 13.98 फीसदी वोट हासिल करने वाली बीजेपी की झोली में इस बार 35 फीसदी वोट जा सकते हैं। जेडीयू के वोट शेयर में जबर्दस्त गिरावट देखने को मिल रही है। पिछले लोकसभा चुनाव में 23.8 फीसदी वोट हासिल करने वाली जेडीयू फिलहाल 11 फीसदी वोट हासिल करने की स्थिति में है। वहींए आरजेडी को 17फीसदी वोट मिलने की संभावना है। पिछले चुनाव में उसे 19.36 फीसदी वोट मिले थे।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.