कोरोना के चलते लॉकडाउन के बीच बैंकिंग की तस्वीर बिल्कुल बदल गई है। पहले सामान्य दिनों में एक दिन में करीब 1400 करोड़ रुपये का कामकाज होता था जो पिछले सात दिन में घटकर केवल 425 करोड़ का रह गया है। पिछले एक हफ्ते में बैंक व एटीएम से निकलने वाला कैश बैंकों में जमा होने वाले कैश की तुलना में आठ गुना ज्यादा हो गया है। कामकाज के अनुपात का इतना बड़ा अंतर पहली बार दिखाई दे रहा है।लॉकडाउन के दौरान बैंकों से कैश निकालने का अनुपात चौंकाने वाला है। सामान्य दिनों से तुलना करें तो बैंकों में पहले जमा ज्यादा होता था और नगद निकासी कम होती थी। इन दिनों जमा करने का आंकड़ा दस फीसदी से भी कम हो गया है। एटीएम का भी यही हाल है। शहर के 900 से ज्यादा एटीएम से आम दिनों में व्यवसायिक इलाकों में 65 करोड़ और रिहायशी इलाकों से 53 करोड़ की निकासी होती थी।

यानी कुल 118 करोड़ रुपए निकलते थे और कैश निकासी 180 करोड़ अलग से होती थी। इन दिनों एटीएम से ही रोजाना 180 करोड़ रुपए निकल रहे हैं। ये स्थितियां तब हैं, जब कारोबार और व्यापार बंद है। केवल जरूरी वस्तुओं से जुड़े दस फीसदी व्यापारी ही सीमित मात्रा में कामकाज कर रहे हैं।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.