नई दिल्ली। लॉकडाउन में लोगों के वर्क फ्रॉम होम करने के चलते इंटरनेट बैंडविथ पर दबाव काफी बढ़ गया है। ऐसे में नेटवर्क पर दबाव कम करने के लिए नेटफ्लिक्स, हॉटस्टार, फेसबुक जैसे वीडियो स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म्स ने एचडी (हाई डेफिनेशन) और अल्ट्रा एचडी वीडियो अस्थायी रूप से खत्म करने का फैसला किया है। स्मार्टफोन पर एचडी क्वालिटी को एसडी पर डिफॉल्ट किया जाएगा। इसका मतलब यह है कि हाई डेफिनेशन चैनल अब एसडी (स्टैंडर्ड डेफिनेशन) पर चलेंगे। अब स्मार्टफोन पर वीडियो की क्वालिटी 480p रहेगी। इससे ग्राहकों का इंटरनेट डेटा कम खर्च होगा। ऐसा लॉकडाउन की वजह से इंटरनेट की बढ़ती डिमांड को पूरा करने के लिए किया गया है। यह फैसला केवल मोबाइल नेटवर्क के लिए किया गया है न कि ब्रॉडबैंड के लिए।

इससे उपभोक्ताओं का डाटा कम खर्च होगा और कंपनियों के इंफ्रास्ट्रक्चर पर भी ज्यादा लोड नहीं पड़ेगा। यह निर्णय आगामी 14 अप्रैल तक लागू रहेगा। कोरोना वायरस के तेजी से फैलते संक्रमण को तोड़ने के लिए सरकार ने 21 दिन तक देशभर में लॉकडाउन की घोषणा की है। यानी 14 अप्रैल तक लोग अपने घरों में ही रहेंगे। लॉकडाउन की स्थिति में लोग वर्क फ्रॉम होम करने के लिए मजबूर हैं। लोग अपने मोबाइल डाटा की मदद से अपने ऑफिस का काम कर रहे हैं। इससे डाटा का इस्तेमाल अप्रत्याशित तौर पर बढ़ गया है। कुछ रिपोर्ट्स में ऐसा कहा गया है कि दबाव के चलते भारत में इंटरनेट नेटवर्क क्रैश कर सकता है। हालांकि इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर्स (आईएसपी) ने पूरा विश्वास जताया है कि उनका नेटवर्क हेवी ट्राफिक झेलने के काबिल है।

यह फैसला स्टार डिज्नी इंडिया के चेयरमैन उदय शंकर की ओर से आयोजित एक वर्चुअलर बैठक में लिया गया। इसमें सोनी एंटरटेनमेंट के एनपी सिंह, गूगल के संजय गुप्ता, फेसबुक के अजीत मोहन, वायकॉम18 के सुधांशु वत्स, अमेजन प्राइम वीडियो के गौरव गांधी, टिक टॉक के निखिल गांधी, नेटफ्लिक्स के अंबिका खुराना, एम एक्स प्लेयर के करण बेदी, हॉटस्टार के वरुण नारंग और जी इंडिया लिमिटेड के पुनीत गोयनका शामिल हुए।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.