कोरोना वायरस के संक्रमण की महामारी को फैलने से रोकने लिए रविवार को भारत सहित दुनिया के कई देशों में डेढ़ अरब से ज्यादा लोग घरों में कैद रहे। वहीं, घातक संक्रमण से मरन वालों की तादाद बढ़कर 13,000 के पार पहुंच गई है। दुनिया में कुल तीन लाख से ज्यादा लोगों के संक्रमित में होने की पुष्टि हुई है। हालांकि, 95 हजार से ज्यादा लोग अब तक स्वस्थ हो चुके हैं।
इस महामारी के कारण दुनिया के 35 से ज्यादा मुल्कों ने बंद (लॉकडाउन) घोषित किया हुआ है, जिससे जनजीवन, यात्रा और कारोबार प्रभावित हुए है। सार्वजनिक परिवहन सेवाओं पर रोक लगा दी गई है। वहीं, कई देशों की सरकारें अपनी सीमाएं पूरी तरह से बंद करने को लेकर जद्दोजहद कर रही हैं।
सबसे बुरी तरह से प्रभावित इटली में लॉकडाउन को बढ़ाते हुए अब तमाम कारखाने भी बंद कर दिए गए हैं। इसके अलावा अमेरिका में कैलिफोर्निया के बाद न्यूयॉर्क में लोगों के आवागमन और गतिविधियों पर प्रतिबंध लगा दिए गए है। न्यूजर्सी, कनेक्टिकट, पेंसिल्वेनिया और नेवाडा जैसे राज्य और इलिनॉयस, लॉस एंजिलिस और शिकागो जैसे बड़े शहर भी बंद है। कई अन्य राज्यों में भी प्रतिबंध लगाने की उम्मीद है।
ये भी पढ़ें: वायरस संक्रमित डॉक्टर के साथ मीटिंग के बाद क्वॉरेंटाइन में गईं जर्मन चांसलर एजेंला मर्केल
वहीं भारत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील पर एक दिन का जनता कर्फ्यू लागू किया गया है, जिसमें 125 करोड़ लोगों से अपने-अपने घरों में रहने की अपील की गई थी। इस दौरान सभी सार्वजनिक स्थल, परिवहन सेवाएं, कंपनियां, शिक्षण संस्थान आदि संब बंद रहे।
इनके अलावा ब्रिटेन, फ्रांस, इटली, स्पेन और अन्य यूरोपीय देशों में पहले से ही देशव्यापी बंद (लॉकडाउन हैं और कुछ मामलों में जुर्माना लगाने की भी चेतावनी दी है। ब्रिटेन ने पब, रेस्तरां और थिएटर बंद करने को कहा और लोगों से दहशत में आकर सामान नहीं खदरीने को चेताया।
जर्मनी के बावरिया में कामबंदी हो चुकी है। कोलंबिया में भी लोगों को अनिवार्य तौर पर पृथक रहने का आदेश दिया गया है। उधर, लैटिन अमेरिका में क्यूबा और बोलिविया दोनों ने अपनी सीमाएं बंद कर दी है। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि लोगों को घर से नहीं निकलने देने की सरकार की कोशिश को अमल में लाने के लिए हेलीकॉप्टर और ड्रोन तैनात किए हैं।
ओलंपिक टालने का दबाव :
कोविड-19 के प्रसार का मुकाबला करने के लिए अभूतपूर्व उपायों ने अंतरराष्ट्रीय खेल कैलेंडर पर असर डाला है और ओलंपिक के आयोजकों पर तोक्यो में होने वाले 2020 ओलंपिक को टालने का दबाव बढ़ रहा है। इसके अलावा कई बड़े टूर्नामेंट स्थगित किए जा चुके हैं।
कोरोना वायरस के टीके के लिए चीन ने शुरू किया क्लीनिकल ट्रायल
अर्थव्यवस्था बचाने को पैकेज :
इस महामारी ने दुनियाभर के शेयर बाजारों को हिला दिया है। दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था अमेरिका बाजार में आपातकाल उपाय के तहत बड़ा पैकेज देने पर विचार कर रहा है। यूरोपीय देशों में आर्थिक मंदी से बचने के लिए आपातकालीन उपायों के तहत अरबों डॉलर के सहायता पैकेज को मंजूरी दी जा चुकी हैं।
राहत :
इस बीच अमेरिका के खाद्य और औषधि नियंत्रण प्रशासन ने कोरोना वायरस के एक ऐसे परीक्षण किट को मंजूरी दे दी है जिससे जांच के नतीजे 45 मिनट में मिल जाएंगे।
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा, यह साझा राष्ट्रीय बलिदान का समय है, लेकिन यह अपने प्रियजनों को सुरक्षित रखने का भी वक्त है। उन्होंने कहा कि हमारी बड़ी जीत होगी। वहीं, स्पेन के प्रधानमंत्री पेड्रो सांचेज ने अपने राष्ट्रीय संबोधन में चेताया कि देश को और मुश्किल दिनों के लिए तैयार रहने की जरूरत है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.