लखनऊ। चीन से फैले कोरोना वायरस का कहर बढ़ता ही जा रहा है। उत्तर प्रदेश सरकार के साथ ही लोगों के प्रयास के बाद भी इनकी संख्या बढऩे से अब यह स्टेज थ्री की ओर अग्रसर है। इसके बाद भी लोग लापरवाही बरत रहे हैं। बॉलीवुड सिंगर कनिका कपूर की घोर लापरवाही के कारण लखनऊ में बड़ी आबादी संकट में हैं।

कनिका कपूर के साथ लखनऊ में शुक्रवार को छह और लोगों में कोरोना वायरस के संक्रमण की पुष्टि हो गई है। विख्यात बॉलीवुड गायिका कनिका कपूर 15 मार्च को लंदन से आने के बाद कई जगह भ्रमण पर थीं। लखनऊ में पॉश एरिया एरिया महानगर के शालीमार गैलेंट में रहने वाली चर्चित सिंगर कनिका कपूर में आज कोरोना वायरस के संक्रमण की पुष्टि हो गई है। उनको किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी में तीन अन्य लोगों के साथ भर्ती कराया गया, इसके बाद संजय गांधी पीजीआई भेजा गया है। कनिका का पड़ोसी भी जांच में संक्रम‍ित पाया गया है।

संकट में लखनऊ की बड़ी आबादी
कोरोना पॉजिटिव बॉलीवुड की मशहूर सिंगर ने लखनऊ की बड़ी आबादी को संकट में डाल दिया है। वे 15 मार्च को लंदन से लखनऊ से आई थीं। एयरपोर्ट पर वॉशरूम में छिप कर निकल गईं। हालांकि उनके पिता राजीव कपूर का दावा है कि वह लखनऊ एयरपोर्ट पर प्रापर स्कैनिंग के बाद ही बाहर निकली थीं। इसके बाद उन्होंने लखनऊ के नामी सितारा होटल में सौ से ज्यादा लोगों को पार्टी दी। आज उनकी जांच हुई तो कोरोना पॉजिटिव निकलीं। पार्टी में शहर के तमाम अफसर के साथ हाईप्रोफाइल लोग शामिल हुए थे। गैलेंट अपार्टमेंट के लोगों ने डॉक्टरों को सूचना देकर पूरी जानकारी दी।

अपार्टमेंट की पूरी सोसाइटी डरी हुई है क्योंकि गायिका तमाम जगह गई थीं। प्रख्यात बॉलीवुड सिंगर कनिका कपूर 15 मार्च को लंदन से लखनऊ आईं। चौधरी चरण सिंह इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर वह एयरपोर्ट कर्मियों की मिलीभगत से वॉशरूम में छिप कर निकल भाग गईं। इसके बाद लखनऊ के महानगर में मौजूद गैलेंट अपार्टमेंट में लोगों को पार्टी दी। कनिका कपूर लखनऊ के ताज होटल में एक पार्टी में भी गईं थी। पार्टी में तमाम बड़े अफसर और कई नेता शामिल थे। महानगर के अपार्टमेंट के साथ लखनऊ में काफी खलबली मची है। कनिका के साथ उनकी मेड की रिपोर्ट पॉजिटिव है। वह जिस-जिस पार्टी में गईं वहां के सैकड़ों नौकर-चाकर और पार्टी कैटरर के तमाम कर्मी भी दहशत में हैं।

सिंगर कनिका कपूर के भाई ने कहा वह लंदन गई थी और वापस आने के बाद उसने गले में खराश और फ्लू की शिकायत की। हमने उनका टेस्ट करवाया और यह पॉजिटिव आया है। कनिका के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद उनकी पार्टी में शामिल हुए लोग भी दहशत में हैं। लखनऊ के गैलेंट अपार्टमेंट में आयोजित उनकी पार्टी में करीब 125 लोग शामिल हुए थे। कनिका कपूर के पिता ने बताया कि लंदन से आने के बाद कनिका तीन पार्टियों में जा चुकी हैं। इस दौरान वह करीब 400 लोगों से मिलीं। कनिका पूर्व सांसद अकबर अहमद डम्पी के यहां पार्टी में शामिल हुई थीं। जिसमें भाजपा के कई बड़े नेता, मंत्री व अधिकारी शामिल हुए थे। वह एक बड़े कारोबारी के घर आयोजित पार्टी में भी गई थीं। होटल ताज में भी एक कैबिनेट मंत्री और कई आईएएस अफसर, पेज थ्री सेलिब्रिटी, नेता और मंत्री शामिल हुए थे। दोनों ही पार्टियों में कैटरिंग स्टाफ व होटल स्टाफ को हटाकर 500-700 लोग शामिल हुए। कनिका ने कई लोगों के साथ सेल्फी खिंचवाई और हैंडशेक किया। कनिका के परिवार में छह लोग हैं। उनके परिवार की भी स्क्रीनिंग की जाएगी।

लखनऊ में कनिका कपूर के संपर्क में आये कम से कम पाँच सौ लोग दहशत में हैं। कनिका के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद उनकी पार्टी में शामिल हुए लोग भी दहशत में हैं। लखनऊ के गैलेंट अपार्टमेंट में आयोजित उनकी पार्टी में करीब 125 लोग शामिल हुए थे। लखनऊ में कोरोना पॉजिटिव लोगों की संख्या पांच हो गई है। शुक्रवार को खुर्रमनगर के तीन और महानगर की कनिका तथा उनकी मेड में कोरोना पॉजिटिव की पुष्टि हुई है। संक्रमित लोगों के घर स्वास्थ्य विभाग की टीम पहुंची। इसके बाद मरीजों को केजीएमयू ले जाया गया।

इसके साथ ही लखनऊ के किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी में दर्जनों की स्कैनिंग जारी है। इनकी संख्या में बढ़ोतरी तय है। लखनऊ व आगरा में आठ-आठ पॉजिटिव केस मिलने के साथ ही उत्तर प्रदेश में अब संक्रमितों की संख्या 23 पर पहुंच गई है। लखनऊ में अब तक कुल आठ में कोरोना वायरस की पुष्टि हो चुकी है। इसके अलावा आगरा में आठ, नोएडा में चार, गाजियाबाद में दो और लखीमपुर खीरी में एक में कोरोना वायरस से संक्रमित है। केजीएमयू ने कहा कि इलाज के लिए मरीज अन्य अस्पतालों में भी भर्ती कराए जाएं।

लखनऊ में शुक्रवार को जिन चार और लोगों में कोरोना वायरस की पुष्टि हुई है उनमें दो महिला व दो पुरुष शामिल हैं। बॉलीवुड सिंगर के साथ ही बाकी तीन पहले से कोरोना वायरस से संक्रमित के संपर्क में थे। केजीएमयू के प्रवक्ता डॉ. सुधीर सिंह ने बताया कि लखनऊ में सभी को आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है। नौ में से सात मामले हायर लोड वाले पाए गए हैं। लखनऊ में गोमतीनगर निवासी पॉजिटिव केस इंग्लैंड से लौटा है जबकि लखीमपुर खीरी निवासी टर्की से आया है। डॉ. सुधीर सिंह बताया कि दो और रोगियों की संक्रमण से पुष्टि हो गयी है। वर्तमान में इनकी संख्या नौ हो गयी है।

लखनऊ में गोमतीनगर के विशाल खंड निवासी शख्स लंदन से लौटा है। उसे केजीएमयू के आइसोलेशन वार्ड में एडमिट कर इलाज किया जा रहा है। लखीमपुर खीरी निवासी मरीज में भी कोरोनावायरस की पुष्टि होने के बाद उसे भी एडमिट किया गया है। यह तुर्की से लौटा है। लखीमपुर का मरीज मैैगलगंज में इलेक्ट्रॉनिक की दुकान करता है। वह 8 तारीख को तुर्की से यात्रा कर लौटा था। ऐसे में बुखार आया। उसने मैगलगंज, महोली, सीतापुर मे डॉक्टरों को दिखाता रहा। फायदा न होने पर कल केजीएमयू आया। ऐसे में कई लोगों में संक्रमण की आशंका है। लखनऊ में सबसे पहले आठ मार्च को कनाडा से आई महिला डॉक्टर में कोरोना वायरस पॉजिटिव पाया गया था। इसके बाद उसके संपर्क में आए एक रिश्तेदार भी पॉजिटिव पाया गया था, जिनका इलाज चल रहा है। कनाडा से लौटी इस महिला के सम्पर्क में आए नजदीकी दस लोगों को आइसोलेशन वार्ड में रखा गया।

स्थानीय लोगों की लापरवाही
लखनऊ के पूर्व सीएमओ एसएनएस यादव का कहना है कि केजीएमयू में काम करने वाले जूनियर चिकित्सक में कोरोना वायरस की पुष्टि हुई। उसके बाद उसके परिवार में कोरोना वायरस की पुष्टि इस ओर इशारा कर रही है कि यह वायरस अब लापरवाही के कारण स्थानीय लोगों से स्थानीय लोगों में फैल रहा है। इसका बढऩा तीसरे स्टेज की तरफ जाने का संकेत है।

केजीएमयू के मेडिसिन विभाग में नौ कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों को रखा गया है। उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस पॉजिटिव की संख्या 23 पहुंच गई है। लखनऊ में कोरोना वायरस से पीडि़तों की देखरेख में लगे जूनियर डॉक्टर के रिश्तेदारों में भी कोरोना वायरस पॉजिटिव पाया गया है। आज जिन चार लोगों में कोरोना वायरस के पॉजिटिव होने की पुष्टि हुई है, उनमें जूनियर डॉक्टर के तीन रिश्तेदार शामिल हैं। उत्तर प्रदेश सरकार ने कोरोना को भले ही महामारी घोषित नहीं किया है, लेकिन महामारी जैसी सभी स्थितियों से निपटने का अलर्ट जारी किया गया है। यहां पर लाखों लोगों की रोज स्कैनिंग की जा रही है। भारत-नेपाल सीमा के 2200 से अधिक गांवों को सैनिटाइज किया गया है।

डॉक्टर्स व प्रोफेसर्स का अवकाश रद
केजीएमयू प्रशासन ने सभी डॉक्टरों और प्रोफेसरों की छुट्टियां रद कर दी गई। लगातार कोरोना पॉजिटिव मरीजों की बढती संख्या को देखते हुए यह फैसला लिया है। सभी को ऑन कॉल 24 घंटे तैयार रहने के लिए कहा गया। महामारी से निपटने के लिए उन्हें कभी भी बुलाया जा सकता है।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा- भयभीत न हों, सतर्क व सावधान रहें
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोरोना वायरस को लेकर प्रदेश के लोगों को वीडियो पर संदेश दिया है। सरकार की तरफ से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और यूपी के स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह ने कोरोना वायरस से बचने के लिए अपना एक वीडियो भी जारी किया है और लोगों को सावधान और सतर्क रहने का निर्देश दिया है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ने कहा है कि आज पूरी दुनिया कोरोना वायरस की चपेट में है। यह काफी संक्रामक वायरस है। केंद्र के साथ प्रदेश सरकार इससे बचाव पर काम कर रही है। हम इसके रोकथाम के लिए कार्य कर रहे हैं। इसके उपचार के लिए हम काम कर रहे हैं। प्रदेश के सभी 75 जिलों में आइसोलेशन वार्ड बने हैं। इनके साथ 1268 बेड के आइसोलेशन वार्ड बने है। कोरोना वायरस के कहर के उपचार से बेहतर बचाव है। आप सभी से अपील है कि बार – बार अपना हाथ धोएं। हम सभी लोग सावधानी से बीमारी से बच सकते हैं। कोरोना वायरस से भयभीत न हों। बस सावधान व सतर्क रहें।

लड़ाई में अब एसडीआरएफ की टुकड़ियां भी
कोरोना वायरस के संक्रमण से निपटने की लड़ाई में अब एसडीआरएफ की टुकड़ियां भी करेंगी पुलिस की मदद। खास उपकरण और डॉक्टर की टीम के साथ लखनऊ व नोएडा कमिश्नरेट के अलावा मेरठ और गोरखपुर भेजी जा रही है चार टुकड़ियां। संक्रमण से बचाव के लिए लोगों को जागरूक करने के साथ किसी आपात स्थिति के लिए मुस्तैद होंगे एसडीआरएफ के 150 जवान। पीएसी के अस्पतालों में भी किये गए खास बंदोबस्त।

प्रयागराज में कोरोना के तीन संदिग्ध भर्ती
तेज बहादुर सप्रू चिकित्सालय (बेली) में शुक्रवार करीब 11 बजे तीन लोग कोरोना होे की आशंका में पहुंचे। इस जानकारी पर अस्पताल में अफरातफरी मच गई। कर्मचारी काउंटर छोड़कर इधर उधर खिसक गए। बेली अस्पताल में आइसोलेशन वार्ड बनाया गया। वहां तैनात स्टाफ ने फौरन तीनों पुरुषों को आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कर लिया। मामले की जानकारी मुख्य चिकित्साधिकारी को दी गई। तीनों के सैंंपल लिए जा रहे हैं। बताया जा रहा है कि तीनों इटली में रिक्शा चलाते थे। खांसी-जुकाम के चलते उन्हें आशंका हुई तो वह जांच कराने बेली पहुंचे थे। तीन संदिग्ध मरीजों के भर्ती होने के कारण ओपीडी प्रभावित हुई है। बैरीकेडिंग कर लोगों को आने जाने से रोका गया है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.