बरेली/ शाहजहांपुर। अंटा निवासी सिविल इंजीनियर ने अपनी हमसफर को वीडियो कॉल के जरिए कुबूल किया। सिविल इंजीनियर कोरोना वॉयरस के चलते फ्लाइट सेवा बंद होने से मॉरीशस से नहीं आ सका। लड़का और लड़की पक्ष ने निकाह की रस्मों को पूरे उत्साह के साथ निभाया।

अंटा निवासी वसी के बेटे तौसीफ खां की निगोही के मोहल्ला पूरब निवासी नसीम खां की बेटी परवीन से शादी तय हुई थी। तौसीफ सिविल इंजीनियर है और मॉरीशस में तैनात है। कई महीने पहले 19 मार्च की तारीख तय हुई थी। कार्ड भी बंट गए लेकिन, जैसे ही शादी की तिथि नजदीक आई, कोरोना वॉयरस की वजह से विदेश से आने वालों पर प्रतिबंध लग गया। तौसीफ मॉरीशस से नहीं आ सके। ऐसे समय में दोनों परिवार के लोगों ने दूल्हे की अनुपस्थिति में भी शादी की रस्म पूरी करने का निर्णय लिया। गुरुवार दोपहर में शादी नसीम खां के घर पर पहुंची। बिना दूल्हे के आई शादी की चर्चा फैल गई। दूल्हे के भाई और अन्य परिजनों ने शादी की रस्मों को अदा किया। काजी ने लिखापढ़ी पूरी की। दूल्हे को निकाह कुबूल कराने के लिए वीडियो कॉल का सहारा लिया। मॉरीशस से तौसीफ ने काजी और गवाहों के सामने परवीन को कुबूल किया।

वायरस को रोकने के लिए सोशल डिस्टेन्सिंग की अपील
मुख्यमंत्री ने समस्त मण्डलायुक्तों, जिलाधिकारियों एवं पुलिस अधिकारियों को निर्देशित किया है कि वे अपने-अपने जिलों में धर्म गुरुओं से सम्पर्क व संवाद स्थापित कर उनके माध्यम से धार्मिक स्थलों पर एकत्रित न होने के लिए लोगों को जागरूक कराएं। मुख्यमंत्री ने इस दिशा में विभिन्न धर्म गुरुओं द्वारा किए जा रहे प्रयासों का स्वागत किया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि चैत्र नवरात्र नजदीक है। नवरात्र के प्रथम व दूसरे दिन तथा अष्टमी एवं नवमी पर लोग विशेष रूप से मन्दिरों में दर्शन-पूजन के लिए जाते हैं। इस दौरान अनेक स्थानों पर मेले आदि भी आयोजित किए जाते हैं, जिनमें जनता की भारी भागीदारी होती है। विशेष परिस्थितियों को देखते हुए उन्होंने आमजन से अनुरोध किया है कि कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए लोग अपने घर में ही रहकर धार्मिक अनुष्ठान सम्पन्न करें। इससे इस संक्रामक बीमारी के प्रसार को रोकने में मदद मिलेगी। योगी ने एसडीआरएफ बल को निर्देशित किया है कि वे शहरों में इस बीमारी की रोकथाम में जनता का सहयोग करें। घनी आबादी वाले क्षेत्रों में वाहनों में माइक लगाकर कोरोना वायरस से बचाव का व्यापक प्रचार-प्रसार करते हुए लोगों को जागरूक किया जाए।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.