चीन के वुहान से शुरू हुआ कोरोना वायरस 123 देशों में पहुंच गया है। इसके संक्रमण से मरने वाले लोगों की संख्या 16 मार्च तक 6000 को पार कर गई है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इसे महामारी घोषित कर दिया है। दुनिया भर की सरकारें कोरोना वायरस को लेकर लोगों को जागरूक करने पर ध्यान दे रही हैं। जानकारों का कहना है इसके संक्रमण को फैलने से रोककर ही इसे काबू में किया जा सकता है। इसके लक्षणों को पहचानकर ही कोरोना वायरस की बेहतर तरीके से रोकथाम की जा सकती है।
भारत में भी कोरोना से संक्रमण के 110 मामलों की पुष्टि 16 मार्च तक हो चुकी है। इनमें 93 भारतीय और 17 विदेशी नागरिक हैं। कोरोना ने अब तक 14 राज्यों को अपनी चपेट में ले लिया है। केरल में 22 लोगों में कोरोना के लक्षण पाए गए हैं। हालांकि, इनमें से 3 लोगों का इलाज हो चुका है। इसके बाद महाराष्ट्र में 32 लोगों में कोरोना की पुष्टि हुई है। यूपी में भी 12 कोरोना के मामले आए हैं। दिल्ली में 7 लोगों में कोरोना वायरस के लक्षण मिले हैं। कर्नाटक में 6 मामलों की पुष्टि हुई है। भारत में कोरोना के संक्रमण से अब तक तीन लोगों की मौत हो चुकी है। कोरोना से संदर्भित सभी आकंड़े दिन- प्रतिदिन लगातार बढ़ रहे हैं, ऐसे में केंद्र व राज्य सरकार लगातार इससे लड़ने के लिए योजनाएं बना रही है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कोरोना वायरस पर सार्क देशों के प्रमुखों से चर्चा की। इस चर्चा में अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी, मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहिम सोली, श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटबया राजपक्ष, बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना, भूटान के प्रधानमंत्री और नेपाल के प्रधानमंत्री केपी ओली शामिल हुए। पाकिस्तान के स्वास्थ्य मंत्री इस चर्चा में शामिल हुए। सभी प्रमुखों ने मिलकर कोरोना का मुकाबले करने पर सहमति जताई।
चीन से बाहर 122 देशों में कोरोना वायरस के मामलों की पुष्टि हुई है। इन देशों में थाईलैंड, ईरान, इटली, जापान, सिंगापुर, दक्षिण कोरिया, ऑस्ट्रेलिया, मलेशिया, अमेरिका, फ्रांस, जर्मनी और संयुक्त अरब अमीरात शामिल हैं।
कोरोना से ईरान में अब तक 611 , इटली में 1441 , दक्षिण कोरिया में 75 लोगों की मौत हो चुकी है। चीन में अब तक कोरोना से प्रभावित लोगों की संख्या 80,824 और मरने वाले लोगों की संख्या करीब 3200 हो गयी है। दुनिया भर में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 1,70,000 के पार चली गयी है।
कोरोना वायरस का संबंध वायरस के ऐसे परिवार से है, जिसके संक्रमण से जुकाम से लेकर सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्या हो सकती है। डब्लूएचओ के मुताबिक, बुखार, खांसी, सांस लेने में तकलीफ इसके लक्षण हैं। अब तक इस वायरस को फैलने से रोकने वाला कोई टीका नहीं बना है। इसके लक्षण फ्लू से मिलते-जुलते हैं। संक्रमण के फलस्वरूप बुखार, जुकाम, सांस लेने में तकलीफ, नाक बहना और गले में खराश जैसी समस्या उत्पन्न होती हैं। यह वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है। इसलिए इसे लेकर बहुत सावधानी बरती जा रही है। कुछ मामलों में कोरोना वायरस घातक भी हो सकता है। खास तौर पर अधिक उम्र के लोग और जिन्हें पहले से अस्थमा, डायबिटीज़ और हार्ट की बीमारी है।
स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना वायरस से बचने के लिए दिशानिर्देश जारी किए हैं। इनके मुताबिक, हाथों को साबुन से धोना चाहिए। अल्को्हल आधारित हैंड रब का इस्तेलमाल भी किया जा सकता है। खांसते और छीकते समय नाक और मुंह रूमाल या टिश्यूा पेपर से ढककर रखें। जिन व्याक्तियों में कोल्डा और फ्लू के लक्षण हों उनसे दूरी बनाकर रखें। अंडे और मांस के सेवन से बचें। जंगली जानवरों के संपर्क में आने से बचें। भारत सरकार ने भी कोरोना वायरस के लक्षण मिलने पर तत्काल स्वास्थ्य केंद्र पर सूचना देने को कहा है. स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से 24 घंटे चलने वाला कंट्रोल रूम तैयार किया गया है। फोन नंबर 011-23978046 के माध्यम से कंट्रोल रूम में संपर्क किया जा सकता है। इसके अलावा [email protected] पर मेल कर के भी कोरोना वायरस के लक्षणों या किसी भी तरह की आशंकाओं के बारे में जानकारी ली जा सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.