मथुरा-  अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में भड़काऊ भाषण देने वाले डॉ कफील खान अभी मथुरा जेल से नहीं रिहा हुए कि उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने उनके खिलाफ बड़ा एक्शन लिया है. अब योगी आदित्यनाथ की पुलिस ने डॉ कफील के खिलाफ रासुका यानी राष्ट्रीय सुरक्षा कानून  के तहत कार्रवाई की है. बता दें कि डॉ. कफील खान आज जमानत पर रिहा होने वाले थे, लेकिन रिहाई से पहले ही उन पर रासुका लगने से वो और मुश्किलें में घिर गए हैं.

गौरतलब है कि 12 दिसंबर को अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में डॉ कफील ने सीएए के खिलाफ भड़काऊ भाषण दिया था, जिसमें धार्मिक भावनाओं को भड़काने का एक वीडियो भी सामने आया था. जिसके बाद डॉ कफील पर अलीगढ़ प्रशासन द्वारा कार्रवाई की गई थी. भड़काऊ भाषण के बाद एसटीएफ द्वारा डॉ कफील को मुंबई के एयरपोर्ट से गिरफ्तार किया गया था. जिसके बाद उन्हें अलीगढ़ लाया गया. लेकिन एएमयू में तनाव को देखते हुए डॉ कफील को 31 जनवरी को मथुरा जिला कारागार में शिफ्ट कर दिया गया. देर रात डॉ कफील की रिहाई का आदेश मथुरा जिला कारागार को मिला था, लेकिन देर रात होने के चलते उन्हें जेल से रिहा नहीं किया गया.

सुबह होते ही जब उनकी रिहाई की तैयारी की जा रही थी. तभी अलीगढ़ प्रशासन की तरफ से NSA की कार्रवाई का नोटिस मथुरा जिला कारागार को मिला. इसके बाद डॉ कफील की रिहाई को रोक दिया गया. इससे पहले गोरखपुर के मेडिकल कॉलेज में हुए मासूम बच्चों की मौत के बाद डॉ कफील सुर्खियों में आए थे. अब उन्होंने फिर सुर्खियों में आने के लिए अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) में भड़काऊ भाषण दिया था. जिसके बाद उन पर कार्रवाई की गई. डॉ कफील के परिजन भी उन्हें रिहा करवाने के लिए मथुरा जिला कारागार पहुंच गए थे. लेकिन एनएसए की कार्रवाई के चलते डॉ कफील की रिहाई को रोक दिया गया. डॉ कफील के परिजनों को मायूस होकर लौटना पड़ा है.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.