बीजिंग: चीन में कोरोना वायरस का कहर थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। यह जानलेवा वायरस अब तक 1300 से ज्यादा लोगों की जान ले चुका है। बुधवार को इसकी वजह से चीन के हुबेई प्रांत में 242 लोग काल के गाल में समा गए। यह एक दिन में इस वायरस से हुई मौतों का सबसे बड़ा आंकड़ा है। इसके साथ ही इस वायरस से संक्रमित 14,840 नए लोगों की पुष्टि हुई है। ऐसा माना जा रहा है कि यह वायरस पिछले साल हुबेई प्रांत की राजधानी वुहान के उस बाजार से फैला था, जहां जंगली जानवर बेचे जाते हैं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक ट्रेडोस अदनोम ने कहा कि न्यू कोरोना वायरस से ग्रस्त निमोनिया को WHO ने COVID-9 नाम दिया है। उन्होंने कहा कि पहला टीका 18 महीनों के भीतर तैयार कर लिया जाएगा। न्यू कोरोना वायरस पर वैश्विक अध्ययन और नवाचार मंच की बैठक मंगलवार को जिनेवा में उद्घाटित हुआ जो कि बुधवार तक चला। विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक ट्रेडोस आशा जताई कि विभिन्न पक्ष संबंधित मुद्दों पर सहमति हासिल करेंगे और योजना बनाएंगे। उन्होंने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन दुनिया भर के 400 से अधिक वैज्ञानिकों के साथ विचार-विमर्श कर रहा है।

ग्रामीण क्षेत्रों में फैलने से रोकने के लिए उठाए गए कदम
चीनी राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग के अधिकारी ने बताया कि चीन ग्रामीण क्षेत्रों में महामारी की रोकथाम और उसके नियंत्रण के लिए हरसंभव कदम उठाएगा। कृषि और ग्राम मंत्रालय के अधिकारी ने समाज के तमाम लोगों से एक साथ गांवों की रोकथाम में भाग लेने की अपील की है। इसके साथ विशेषज्ञों ने कृषि उत्पादन चलाने और महामारी की रोकथाम के बारे में ठोस सुझाव भी दिए। इस समय चीन में कुल 14 लाख 40 हजार ग्रामीण डॉक्टर हैं। ग्रामीण डॉक्टरों की सेवा आम तौर पर पूरे गांवों को मिल रही है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.