नई दिल्ली – भारतीय अर्थव्यवस्था को इंटरनेट बंद होने से बड़ा नुकसान उठाना पड़ा है। साल 2019 में देशभर में करीब 4,196 घंटें इंटरनेट बंद रहा, जिसके चलते देश को करीब 9,245 करोड़ रुपए का नुकसान उठाना पड़ा है। इंटरनेट बंद होने से सबसे ज्यादा नुकसान उठाने वाले देशों में ईराक और सूडान के बाद भारत तीसरे पायदान पर है। इंटरनेट सर्च फर्म टॉप 10 वीपीएन (Top10 VPN) की ग्लोबल कॉस्ट ऑफ इंटरनेट स्टडॉउन की रिपोर्ट के मुताबिक वैश्विक स्तर पर इंटरनेट बंद होने से साल 2019 में 8.05 बिलियन डॉलर (5,72,69 करोड़ रुपए) का नुकसान उठाना पड़ा है। इस नुकसान साल 2015-16 की तुलना में साल 2019 में 235 फीसदी बढ़ गया है। शोधकर्ता शैमुअल वुडहाम्स के मुताबिक साल 2019 में करीब 106 बार इंटरनेट बंद किया गया। बार-बार इंटरनेट बंद होने के मामले में भारत बाकी देशों के मुकाबले आगे है।

साल 2019 में 263 घंटे इंटरनेट बंद होने के साथ इराक पहले स्थान पर है। इंटरनेट बंद होने से इराक को करीब 2.3 अरब डॉलर का नुकसान हुआ। वहीं दूसरे नंबर पर रहा सूडान, जिसे नेटबंदी से 1.7 अरब डॉलर का नुकसान हुआ। इंटरनेट बंद होने के के मामले में भारत तीसरे स्थान पर है। दुनियाभर में पिछले साल इंटरनेट बंद होने की 122 प्रमुख घटनाएं हुई, जिनमें से भारत में करीब 100 छोटी-बड़ी इंटरनेंट बंद होने की घटा हुई।

इंटरनेट बंद होने का सबसे ज्यादा असर वॉट्सएप पर रहा। इसके बाद फेसबुक और यू-ट्यूब प्रभावित हुआ। टॉप 10 वीपीएम की ओर से की गई एक स्टडी में सामने आया कि दुनियाभर में हुई नेटबंदी के कारण पिछले साल वॉट्सएप करीब 6,236 घंटे बाधित रहा। भारत सहित श्रीलंका और सूडान जैसे देश इससे सबसे ज्यादा प्रभावित रहे। जिससे वैश्विक स्तर पर आठ अरब डॉलर का नुकसान हुआ। व्हाट्सऐप के बाद सबसे ज्यादा नुकसान फेसबुक को हुआ, ग्लोबल स्तर पर साल 2019 में फेसबुक 6,208 घंटे बंद रहा। वहीं इंस्टाग्राम 6,193 घंटे और ट्विटर 5,860, जबकि यूट्यूब 684 घंटे इंटरनेट न होने की वजह से बंद रहा।

इंडियन काउंसिल फॉर रिसर्च ऑन इंटरनेशनल इकोनॉमिक रिलेशंस समेत दो थिंक टैंक की संयुक्त रिपोर्ट बताती है कि साल 2012 से अब तक सरकार ने देश में 367 बार इंटरनेट बंद किया। 2018 में दुनिया में होने वाले कुल इंटरनेट शटडाउन में से 67 फीसदी भारत में हुए। जनवरी, 2012 और जनवरी, 2019 के बीच 60 शटडाउन ऐसे रहे जो 24 घंटे से कम अवधि के थे। 55 शटडाउन 24 से लेकर 72 घंटों तक लागू रहे और 39 शटडाउन 72 घंटों से ज्यादा के रहे। 2012 से 201 के बीच 16 हजार घंटों से ज्यादा समय के लिए इंटरनेट बंद रहा। अब तक का सबसे लंबा शटडाउन कश्मीर में चल रहा है। यहां पर 5 अगस्त, 2019 से इंटरनेट है। अब तक 136 दिन हो चुके हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक देश के सभी राज्यों में वर्ष 2012 से 2017 के बीच इंटरनेट बंद होने से 3 अरब डॉलर (तकरीबन 21 हजार करोड़ रुपए) का आर्थिक नुकसान हुआ है। राज्यों की बात करें तो सबसे ज्यादा नुकसान गुजरात को 117.75 लाख डॉलर का हुआ। जम्मू-कश्मीर में 61.02 लाख डॉलर, राजस्थान में 18.29 लाख डॉलर, उत्तर प्रदेश में 5.3 लाख डॉलर, हरियाणा में 42.92 लाख डॉलर, बिहार में 5.19 लाख डॉलर का नुकसान हुआ।

रिपोर्ट – एजेंसी इनपुट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.