असम –  टीम इंडिया के नए साल और दशक की शुरुआत फीकी रहने के कारण फैंस से लेकर क्रिकेट दिग्गजों तक का गुस्सा गुवाहटी के बरसापारा स्टेडियम के मैनेजमेंट पर फूटा। श्रीलंका के खिलाफ पहले टी20 मैच में बारिश के कारण 22 गज की पिच भीग गई।

जिसके पीछे असम क्रिकेट एसोसिएशन के मैदान में जाने वाले कवर्स का फटा होना व उन्हें गलत तरीके से हटाने का आरोप ग्राउंड स्टाफ पर लगाया गया है। पिच गीली होने के कारण उसमें जगह-जगह पर पानी के थक्के बन गए जिसे सुखाने के लिए कल मैदान में पिच के उपर हेयर ड्रायर, स्त्री, और वैक्यूम क्लीनर सभी चीज़ों का इस्तेमाल किया गया लेकिन मैच नहीं हो सका। जिस पर पूर्व खिलाड़ी वी.वी.एस. लक्ष्मण और आकाश चोपड़ा ने बड़ा बयान दिया है।

दरअसल, टीम इंडिया के साल का पहला टी20 मैच गुवाहटी में खेला जाना था। जिसे देखने को लेकर बरसपारा स्टेडियम फैन्स से खचाखच भरा हुआ था। ऐसे में बारिश तो समय पर बंद हो गई थी और मैदान भी सुखा लिया गया था। मगर अंत में कवर्स में छेद होने के कारण उन्हें हटाते समय पिच पर पानी दिखाई दिया और वो जगह-जगह पर पूरी तरह से गीली हो चुकी थी।

इतना ही नहीं जब कप्तान विराट कोहली ने उसे अपने हाथों से चेक किया तो उनकी ऊँगली पिच के अंदर धंसी जा रही थी। ऐसे में मैच होंना असंभव लग रहा था। इसके बाद भी दो से तीन घंटे के प्रयास के बाद लगभग 10 बजे के करीब मैच रद्द घोषित कर दिया गया।

इस तरह ग्राउंड स्टाफ से बचकाना हरकत के बाद क्रिकेट दिग्गज वीवीएस लक्ष्मण ने स्टार सपोर्ट में कहा, “इतनी कम बारिश की वजह से मैच रद्द होता है तो ये बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है। लक्ष्मण के मुताबिक मैदानकर्मियों को इस मैच के लिए अच्छी तैयारी रखनी चाहिए थी।

वहीं उनके साथी पूर्व खिलाड़ी आकाश चोपड़ा ने कहा, “ये बिल्कुल स्कूली बच्चे जैसी गलती हैं। पिच ढके जाने वाले कवर्स में कुछ छेद थे जिसके चलते पानी रिसता रहा और पिच गीली होती चली गई। ये लापरवाही है और आप इस स्तर पर कोई बहाना नहीं बना सकते हैं।”जबकि दूसरी तरफ असम क्रिकेट एसोसिएशन के सचिव देवजीत साईकिया ने कहा, “इसका अधिकारी कारण अधिक वर्ष होना है। आप दो बार भरी बारिश होने के बाद कम समय में मैच नहीं शुरू कर सकते हैं।”

बता दें कि श्रीलंका के खिलाफ तीन मैचों की टी20 सीरीज का अगला दूसरा मैच 7 जनवरी को इंदौर में जबकि 10 जनवरी को तीसरा व अंतिम टी20 मैच पुणे के मैदान में खेला जाएगा।

रिपोर्ट – एजेंसी इनपुट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.