अंबेडकरनगर- एक दिन की राहत के बाद शुक्रवार को सर्द हवाओं के बीच जिले के कुछ क्षेत्रों में बूंदाबांदी तो कुछ क्षेत्रों में रिमझिम बारिश हुई। इससे एक बार फिर से समूचा जिला हांड़कंपाऊ ठंड से ठिठुर उठा। सुबह से ही खराब मौसम का नतीजा यह रहा कि बाजारों में एक बार फिर से सन्नाटा पसर गया। ग्रामीण क्षेत्र के लोगों ने खराब मौसम को देखते हुए बाजार जाने की हिम्मत नहीं जुटा सके। बाजारों में सन्नाटा पसरने के चलते दुकानदार जगह जगह अलाव जलाकर ठंड से बचने का प्रयास करते दिखे। उधर तेज बारिश के आसार ने किसानों की चिंता बढ़ा दी। किसानों का कहना था कि यदि तेज बारिश होती है, तो गेहूं व आलू की फसल के जहां सड़ने की आशंका है, वहीं चना, मटर, सरसों को भी तेज हवा के चलते नुकसान हो सकता है।

गुरुवार को दिनभर निकली तेज धूप से तापमान में आए कमीं से कड़ाके की ठंड से जूझ रहे लोगों ने राहत की सांस ली थी। उम्मीद थी कि अब मौसम साफ हो जाएगा, लेकिन शुक्रवार को सुबह जब लोगों ने बिस्तर छोड़ा, तो घने काले बादल छाए दिखे। घने बादल व सर्द हवा से एक बार फिर से समूचा जिला ठिठुर उठा। खराब मौसम के चलते लोग घरों व प्रतिष्ठानों में ही कैद रहे। इससे प्रमुख बाजारों व मार्गों पर सन्नाटा पसर गया। ऐसा लगा कि शीघ्र ही बारिश शुरू हो जाएगी। दोपहर होते होते जिले के अकबरपुर व आसपास के क्षेत्रों में बूंदाबांदी, तो आलापुर व भीटी के कुछ क्षेत्रों में रिमझिम बारिश हुई।

अपराह्न तक विभिन्न क्षेत्रों में हुई बूंदाबांदी व रिमझिम बारिश तथा साथ में चल रही सर्द हवा से पारा तेजी से गिर गया। इससे लोग ठंड से ठिठुर उठे। ठंड से बचने के लिए लोग जगह-जगह अलाव का सहारा लेते दिखे जो लोग जरूरी कार्य से घर से बाहर निकले भी, वह जल्दी जल्दी काम निपटाकर अपने अपने घर चले गए। इससे समय से पहले ही बाजारों में सन्नाटा पसर गया। इससे ज्यादातर दुकानदार भी समय से पहले ही अपनी अपनी दुकानें बंद कर घर चले गए।

शुक्रवार को सुबह से ही चल रही सर्द हवा से एक तरफ जहां ठंड का प्रकोप बढ़ गया, वहीं तेज हवा से जिले के विभिन्न क्षेत्रों में विद्युत आपूर्ति बेपटरी हो गई। कहीं जर्जर तार टूट गए, तो कहीं पेड़ की डाल गिरने से व:िद्युत खंभा क्षतिग्रस्त हो गया। जहांगीरगंज, राजेसुल्तानपुर, रफीगंज, टांडा, भीटी, महरुआ व कटेहरी के कई क्षेत्रों में तेज हवा के चलते जगह जगह तार टूट गए। इससे संबंधित क्षेत्र की विद्युत आपूर्ति पूरी तरह ठप हो गई। नतीजा यह रहा कि लगभग 50 हजार की आबादी को बदतर विद्युत आपूर्ति का दंश झेलने को मजबूर होना पड़ा। देर शाम तक संबंधित क्षेत्रों की आपूर्ति बहाल नहीं हो सकी थी।

सर्द हवा के बीच र्हुई बूंदाबांदी व रिमझिम बारिश ने किसानों की चिंता बढ़ा दी है। उनका कहना है कि यदि तेज बारिश होती है, तो इससे आलू व गेहूं के फसल को व्यापक नुकसान हो सकता है। अकबरपुर के किसान दिलीप कुमार व अनंतराम ने कहा कि जिन किसानों ने गेहूं की सिंचाई एक दिन पहले की थी, उनके लिए बारिश अत्यंत नुकसानदायक है। इससे गेहूं व आलू की फसल के सडने की संभावना है। भीटी के रामसुंदर व गणपति ने कहा कि तेज हवा से फूल वाली फसलों को नुकसान होने की संभावना है। यदि सर्द हवा के चलने का सिलसिला इसी प्रकार से जारी रहा, तो इससे फूलों के झड़ने की संभावना है। यदि फूल झड़ते हैं तो इससे उपज पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है।

रिपोर्ट – न्यूज नेटवर्क 24

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.