उत्तर प्रदेश की पूर्ववर्ती मायावती सरकार में पशुधन एवं दुग्ध विकास राज्यमंत्री रहे अवधपाल सिंह यादव तथा चार अन्य लोगों के खिलाफ राज्य महिला आयोग के निर्देश पर हुई जांच के बाद दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज किया गया है।
आरोप है कि नौकरी दिलाने के बहाने अवधपाल सिंह और उनके बेटे रणजीत सिंह ने महिला के साथ लंबे समय तक दुराचार किया। इस पर राज्य महिला आयोग ने 27 सितंबर को एटा पुलिस से जांच करके 3 अक्तूबर तक रिपोर्ट देने के निर्देश दिए थे। पुलिस सूत्रों ने शनिवार को बताया कि यादव व चार अन्य पर एक दलित महिला से दुष्कर्म और जान से मारने की धमकी देने का मुकदमा शुक्रवार देर रात दर्ज कराया गया।
पूर्व मंत्री अवधपाल सिंह यादव के खिलाफ अलीगंज में शनिवार को दलित युवती ने बलात्कार का मुकदमा दर्ज कराया। इससे पहले पैक्सफेड घोटाले में भी उन्हें नोटिस दिया जा चुका है। उनके पुत्र रणजीत यादव और भाई एमएलसी चन्द्रप्रताप सिंह यादव व एक महिला सरोज को भी नामजद किया गया है।
बता दें कि मामला 17 माह पूर्व तब का है, जब अवधपाल सिंह यादव बसपा शासन में दुग्ध एवं पशुधन विकास मंत्री थे। मनीषा ने पूर्व मंत्री के पुत्र रणजीत सिंह पर भी बंधक बनाने व बलात्कार के आरोप जड़े थे। राज्य महिला आयोग ने जांच एटा पुलिस को सौंपी थी। सीओ अलीगंज शमशेर सिंह ने तीन अक्टूबर को जांच रिपोर्ट आयोग को सौंप दी। इससे पूर्व महिला आयोग में शिकायत दर्ज होने के बाद पुलिस ने मनीषा के कलमबंद बयान भी अदालत में कराए थे। आयोग के निर्देश पर अलीगंज कोतवाली में सभी आरोपियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई गई है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.