नई दिल्ली- ट्विटर पर नेटिजन्स ने कश्मीर के लोगों को इंटरनेट मुहैया कराने को लेकर बयान देने के लिए पाकिस्तान के विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री फवाद हुसैन चौधरी को ट्रोल किया. चौधरी ने ट्विटर पर घोषणा की थी कि “इंटरनेट आजकल एक मौलिक अधिकार माना जाता है.”

फवाद चौधरी ने ट्वीट किया, ”दुनिया में इंटरनेट आज लोगों का मौलिक अधिकार माना जाता है. मैंने SPRACO से पूछा है कि क्या जम्मू-कश्मीर में सेटेलाइट के जरिए इंटरनेट सेवा दे सकते हैं.” इस पर एक ट्विटर यूजर ने कहा, “कृपया सैटेलाइट वॉर का गेम न खेलें. यह पाकिस्तान के लिए सबसे बुरा होगा. इतना ही नहीं मंत्री ने SUPARCO (Space and Upper Atmosphere Research Commission) के नाम को ‘SPRACO’ लिखा, इस वजह से बी उन्हें सोशल मीडिया पर शर्मिंदा किया गया.

केंद्र के अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35 (ए) को खत्म करने के बाद से कश्मीर में इंटरनेट सेवा को निलंबित कर दिया गया है. अब जम्मू-कश्मीर को दो केंद्रशासित प्रदेशों, जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के रूप में अलग कर दिया गया है. जम्मू-कश्मीर और लद्दाख केंद्र शासित प्रदेशों की अगुवाई उपराज्यपाल (एलजी) क्रमश: गिरीश चंद्र मुर्मू और आर के माथुर कर रहे हैं.

रिपोर्ट – न्यूज नेटवर्क 24

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.