मेरठ – सबसे छोटी उम्र में प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार हासिल करने वाली मेरठ की ईहा दीक्षित ने पर्यावरण को बचाने का संकल्प लिया है। प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार-2019 पाने वाली मेरठ की ईहा दीक्षित को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पौधा देकर सम्मानित किया था। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ईहा दीक्षिता समेत 26 बालवीरों को सम्मानित किया था।

छह साल की यह बच्ची हर संडे 10 पौधे लगाकर पर्यावरण बचाने के लिए सबको प्रेरित करती है। ये पौधे ईहा खुद नर्सरी से खरीदकर लाती हैं। ईहा ने प्रधानमंत्री के ‘मन की बात’ से प्रेरित होकर अपने पांचवें जन्मदिन पर एक ही दिन में मेडिकल कॉलेज में 1008 पौधे और छठे जन्मदिन पर 2500 पौधे लगाने का रेकॉर्ड बनाया था।

राष्ट्रपति ने ईहा का हौसला बढ़ाया है और कहा है कि कोई परेशानी हो तो जरूर बताना, मैं मदद करूंगा। ईहा ने ग्राम्य संदेश से कहा कि पर्यावरण को बचाने के लिए अपनी पूरी जिंदगी लगा दूंगी। जागृति विहार, मेरठ के रहने वाले कुलदीप, चौधरी चरणसिंह यूनिवर्सिटी में सेवारत हैं।

उनकी बेटी ईहा को इंडिया बुक ऑफ रेकॉर्ड, यूपी बुक ऑफ रेकॉर्ड, वियतनाम बुक ऑफ रेकॉर्ड, महिला गौरव और अन्य कई सम्मान मिल चुके हैं। ईहा ने ‘ग्रीन ईहा स्माइल क्लब’ नाम से एक ग्रुप बनाया है, जिसमें उसके छह दोस्त भी शामिल हैं। ये सभी बच्चे हर संडे अलग-अलग जगह पौधे लगाते हैं। ईहा को इस वर्ष ग्रीन पीस अवार्ड के लिए चुना गया है।

ईहा के पिता ने बताया कि वह किसी के भी जन्मदिन पर पौधों का उपहार देकर उनसे पौधारोपण का वादा लेती हैं। ईहा के अभियान से अब बड़े भी प्रभावित हो रहे हैं। संडे को फ्री रहने वाले लोग ईहा के साथ पौधारोपण में हाथ बंटाते हैं। कुलदीप बताते हैं।

ईहा घर पर आम और जामुनों को खाने के बाद उनकी गुठलियों को भी गमले में लगा देती थी। उनमें अंकुर आ गए हैं। ईहा का कहना है कि वह इन आम के 40 पौधों को जमीन तलाश कर बाग तैयार करेगी। यूकेजी में पढ़ रही ईहा की उपलब्धियों को अलजजीरा चैनल भी दिखा चुका है।

रिपोर्ट – न्यूज नेटवर्क 24

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.