कानपुर – कार्तिक शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा का स्नान आज है। गंगा में डुबकी लगाने के लिए देश के कईं जगहों से श्रद्धालु धर्मनगरी पहुंचे हैं। यह स्नान वर्ष का अंतिम स्नान पर्व है। इस बार कार्तिक पूर्णिमा का स्नान मुसल योग और भरणी नक्षत्र में हो रहा है। कार्तिक पूर्णिमा पर गंगा स्नान करने के लिए हरिद्वार में श्रद्धालुओं का जनसैलाब उमड़ पड़ा है।

कार्तिक पूर्णिमा पर मंगलवार तड़के ही चित्रकूट, कानपुर, फर्रुखाबाद, उन्नाव आदि शहरों के सभी गंगाघाटों के साथ ही अन्य नदियों के तटाें पर श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ पड़ी। इसके मद्देनजर सभी घाटों पर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई है। गंगा किनारे देर रात से ही श्रद्धालुओं ने डेरा जमाना शुरु कर दिया था।

सुबह चार बजे से ही श्रद्धालुओं ने गंगा पवित्र डुबकी लगाकर स्नान ध्यान किया। आज तड़के चित्रकूट के रामघाट और कानपुर में बिठूर और शुक्लागंज में श्रद्धालुओं ने गंगा स्नान के साथ ही पूजा-अर्चना की और दान कर पुण्य कमाया। सर्दी बढ़ने के बाद भी राज्य के बाहर से भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु चित्रकूट पहुंचे हैं।

सोमवार से ही लोग चित्रकूट और कानपुर के बिठूर पहुंचने लगे थे। आज ब्रह्म मुहूर्त से स्नान शुरू हुआ और सुबह होते-होते गंगा घाट श्रद्धालुओं से पट गए। कार्तिक पूर्णिमा का पर्व आज धूमधाम से मनाया गया। इस बार गंगा की मुख्य धारा कानपुर में शहर के घाटों से काफी दूर चली गई हैं।

कार्तिक पूर्णिमा के दिन भक्त पतित पावनी मां गंगा में डुबकी लगाते हैं और दानपुण्य करते हैं। बिठूर में सुरक्षा के लिए 4 सीओ, 11 थानेदार और 150 पुरुष और महिला पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं। साथ ही जलपुलिस के साथ दो प्लाटून पीएसी तथा घुड़सवार भी तैैनात हैं। सुरक्षा के लिए सीसीटीवी कैमरे भी लगाए गए हैं। उधर, सरसैया घाट में छह नावें लगाई गई हैं। हर नाव पर दो गोताखोर और जलपुलिस तैनात है।

रिपोर्ट – दिवाकर श्रीवास्तव

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.