नई दिल्ली- दिल्ली के तीसहजारी कोर्ट में कार पार्किंग के लेकर वकीलों और पुलिसकर्मियों के बीच हुए मारपीट और आगजनी की घटना से नाराज वकील अब खुलेआम का कानून का उल्लंघन करते नजर आ रहे हैं। अब वे जगह लोगों के साथ मारपीट कर रहे हैं। तीस हजारी के अलावा कड़कड़डूमा, साकेत कोर्ट के वकीलों भी प्रदर्शन कर रहे हैं और मौका मिलने पर पुलिस, आम जनता और ऑटोचालकों के ऊपर हाथ छोड़ने पर भी बाज नहीं आ रहे हैं। अदालत में कानून की बड़ी-बड़ी दलीलें देने वकीलों का यह रूप देखकर हर कोई हैरान है।

इस पूरे मामले की शुरुआत शनिवार की दोपहर हुई। करीब 2:30 बजे एक वकील ने जब लॉकअप के बाहर अपनी कार पार्क करनी चाही तो लॉकअप की सुरक्षा में तैनात एक पुलिसकर्मी से कार पार्क करने को लेकर उसकी बहस हो गयी ।इस बहस के बाद वकील ने अपने साथियों के साथ मिलकर पुलिसवाले को पीट दिया। करीब 2:40 बजे लोकल पुलिस को घटना की जानकारी दी गयी।

जानकारी मिलने पर पुलिसवाले इकट्ठा हो गए और देखते-देखते मामला हिंसक मारपीट में बदल गया। करीब पौने 3 बजे पुलिसवाले एक वकील को पीटते हुए अंदर ले आये। उसे छुड़ाने के लिए वकीलों का झुंड लॉकअप में घुस गया और पुलिसवालों को बेरहमी से पीटा। एक पुलिसवाले को बेल्ट से इतना पीटा कि वह बेहोश हो गया। करीब 3:15 बजे उत्तरी दिल्ली के एडिशनल डीसीपी फ़ोर्स के साथ तीस हज़ारी कोर्ट पहुंचे। वकीलों ने उन्हें भी पीट दिया. वह अपनी जान बचाने के लिए लॉकअप के अंदर चले गए। इसी बीच पुलिस ने कथित तौर पर फायरिंग की। अब पुलिसकर्मियों की मांग है कि दोषी सीनियर पुलिसकर्मियों को बर्खास्त किया जाए।

रिपोर्ट – न्यूज नेटवर्क 24

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.