गोंडा – भारत का इतिहास बेटियों के शौर्य की गाथाओं से भरा पड़ा है। कहीं झांसी की रानी के रूप मे तो कहीं देवी काली के रुप मे ये बेटियां प्राचीन काल से ही अपनी अलग पहचान बना चुकी है ।आज यूपी के देवीपाटन मंडल के गोंडा जिले के एक छोटे से कस्बे की शालनी ने कर दिखाया है ।उसने परिवार का ही नहीं पूरे कस्बे का सिर फक्र से ऊंचा कर दिया है। पुलिस ने उसकी बहादुरी पर उसे सम्मानित करने का फैसला लिया है।

मसौलिया गांव की शालिनी सिंह एक विद्यालय की छात्रा है। गुरूवार की रात असलहा धारी बदमाशों ने उसके घर पर धावा बोल दिया। परिवार को बंधक बनाकर लूटपाट करने लगे। वारदात के दौरान शालिनी बदमाशों से भिड़ गयी और लूटपाट का विरोध शुरू कर दिया और अड़ी रह गयी । लूट का विरोध होना बदमाशों को राश नहीं आया और उन्होंने छात्रा पर हथगोले फेंक दिये।

उसे गम्भीर चोटें आईं फिर भी शालिनी ने हिम्मत नही हारी और बदमाशों का डटकर मुकाबला किया। उसके हौसले देख बदमाश भाग खड़े हुए । रात का आधे से अधिक समय बीत चुका था । सुबह आनी वाली थी ।गांव के लोग हथ गोलो के धमाके को सुनकर दौड़ पड़े । बदमाश भाग निकले । लोगों ने परिवार को बंधन से मुक्त कराया । शालिनी के दोनों पैरों मे चोंटें थी उसे बेहोशी की हालत में सी एच सी में भर्ती कराया।

घटना की जानकारी होते ही स्थानीय पुलिस मौके पर पहुंची और जांच शुरू कर दी । पुलिस ने शालिनी की हिम्मत की सराहना की। शालिनी की निर्भीकता, निडरता और साहस को देखते हुए क्षेत्रीय पुलिस ने साहसी बेटी को सम्मानित करने की घोषणा की है।

रिपोर्ट – राजेन्द्र तिवारी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.