संतकबीरनगर- धनघटा तहसील क्षेत्र के कई गांव और बाजारों में बरसात के बाद मुख्य सड़क पर पानी इस कदर लगा हुआ है, कि लोगों का निकल पाना मुश्किल है। जलजमाव से जहां लोगों को आवागमन में बाधा हो रही है। वहीं पर संक्रामक बीमारियों का भी खतरा तेजी से बढ़ रहा है। ब्लॉक मुख्यालय पौली से तकरीबन 3 से 4 किलोमीटर दक्षिण पूर्व में गोविंदगंज बाजार स्थित है। जो कि अति पिछड़े क्षेत्र वासियों के लिए खरीददारी का मुख्य केंद्र है।

यहां के राजकुमार,गिरीश चंद्र अग्रहरि,सुभाष चंद्र अग्रहरी,बबलू और रामयज्ञ समेत दर्जनों लोगों ने बताया कि यह बाजार राम जानकी मार्ग पर स्थित दुलहापार से तकरीबन 3 किलोमीटर दक्षिण स्थित है। इसी रास्ते से होकर गागरगाड,हडिया,श्रीरामपुर, चंदौली माफी,माझा चहोड़ा सहित डेढ़ दर्जन गांव का रास्ता जाता है। जबकि इन्हीं गांवों के लोग इस बाजार में खरीददारी करने के लिए भी आते हैं। इन लोगों ने यह भी बताया कि इन गांवों की आबादी तकरीबन 20 हजार के आसपास है। लेकिन थोड़ी सी बरसात हो जाने पर यहां के लोगों की वैतरणी पार करना मजबूरी हो जाती है। कुछ इसी तरह की हालत रोसया बाजार की मुख्य सड़क पर है। जो रामपुर से गोविंदगंज को जाती है।

थोड़ा सा पानी बरस जाने के बाद इस रास्ते से गुजर पाना लोगों के लिए काफी कठिन होता है। जबकि तेजपुर गांव के निषाद बस्ती की सड़क पर शुरुआती बरसात के बाद से ही पानी कुछ इस कदर भरा हुआ है कि लोगों का आना जाना तो दूभर है ही साथ ही इस समय वह पानी कीचड़ के रूप में तब्दील होकर 8 से 10 सेंटीमीटर ऊंचा हो गया है। जहां पर मच्छरों समेत तमाम तरह के जीव नजर आते हैं। जोकि संक्रामक बीमारियों के खतरे को बढ़ा रहा है।

जानकारों की मानें तो यहां के लोगों से चुनाव के पूर्व इसे ठीक कराने का वादा भी वर्तमान विधायक के द्वारा किया गया था। लेकिन आज भी स्थिति सिफर बनी हुई है। इस संबंध में पूछे जाने पर एडीओ पंचायत पौली दिनेश कुमार राय ने बताया कि इसे तुरंत दिखाकर निदान की व्यवस्था बनाई जाएगी।

रिपोर्ट – पूनम पांडेय 

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.