दिल्ली – चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग शुक्रवार (11 अक्टूबर) को भारत आएंगे जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ उनकी दूसरी अनौपचारिक शिखर वार्ता होगी। शिखर वार्ता चेन्नई के नजदीक प्राचीन तटीय शहर मामल्लापुरम में होगी। विदेश मंत्रालय ने आज कहा कि ये शिखर वार्ता दोनों नेताओं को द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और वैश्विक महत्व के व्यापक मुद्दों पर बातचीत जारी रखने का अवसर प्रदान करेगी। मोदी-शी आतंकवाद के खिलाफ मुहिम पर बात करेंगे।

मंत्रालय ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री के आमंत्रण पर ‘पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना’ के प्रमुख शी चिनफिंग अनौपचारिक शिखर वार्ता के लिए 11 -12 अक्टूबर 2019 को चेन्नई में होंगे। ’’ मंत्रालय ने कहा कि शिखर वार्ता के दौरान दोनों देश भारत-चीन विकास साझेदारी को गहरा करने पर विचार विमर्श करेंगे।

मोदी और शी के बीच पहली अनौपचारिक शिखर वार्ता चीन के वुहान में अप्रैल 2018 में हुई थी। उसके कुछ महीनों पहले ही डोकलाम में दोनों देशों की सेनाओं के बीच 73 दिनों तक गतिरोध रहा था। प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात के दौरान अगर शी जिनपिंग ने कश्मीर का मुद्दा उठाया तो पीएम उन्हें भारत के बिल्कुल स्पष्ट रुख को समझाएंगे। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने मंगलवार को शी जिनपिंग से बीजिंग में मुलाकात की थी। इमरान खान पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा के साथ चीन के दौरे पर हैं।

मोदी-शी शिखर वार्ता में व्यापार, राजनीतिक संबंधों, आतंकवाद से निपटने के तरीकों पर चर्चा होगी।” इसके साथ ही सीमा पर शांति और सौहार्द बनाए रखने पर चर्चा होगी। सूत्रों ने कहा, ”चीन समेत सभी देशों ने स्पष्ट तौर पर कहा है कि अनुच्छेद 370 को हटाया जाना भारत का आंतरिक मसला है. इस मुद्दे पर चर्चा की कोई गुंजाइश नहीं है।”

रिपोर्ट – न्यूज नेटवर्क 24

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.