Anna Hazare
Anna Hazare

अन्ना हजारे न तो कोई राजनैतिक पार्टी बनाएंगे और न ही खुद चुनाव लड़ेंगे. अन्ना हजारे ने गुरुवार को फिर से यह घोषणा की है कि वह न तो कोई पार्टी बनाएंगे और न ही चुनाव लड़ेंगे. हां, वे लोगों के बीच राजनैतिक जागरूकता के लिए काम करते रहेंगे. वह जनता से सही उम्मीदवारों को चुनने की अपील करेंगे. इस बीच  इंडिया अंगेस्ट करप्शन (आइएसी) के सूत्रों ने बताया कि यह बयान नया नहीं है और अन्ना पहले भी पार्टी में शामिल होने या चुनाव लडऩे से इंकार कर चुके हैं.

भ्रष्टाचार के खिलाफ अपनी नई रणनीति की घोषणा करते हुए अन्ना ने युवाओं से चुनावों में 90 प्रतिशत से अधिक मतदान की अपील की. उन्होंने कहा, ‘नई पार्टी का गठन या चुनाव लडऩे की जरूरत नहीं है, लेकिन जनता को एक विकल्प देने की जरूरत है. सिर्फ जनता में परिवर्तन की शक्ति है और उन्हें जागरूक करने का बीड़ा हमें उठाना है.Ó उन्होंने कहा कि विधानसभा और लोकसभा चुनावों में मतदाताओं को सही उम्मीदवारों को चुनना चाहिए. हजारे ने कार्य करने के लिए छह बिंदुओं को चुना है. जिनमें साफ-सुधरी छवि वाले प्रत्याशी को चुनने, राइट टू रिजेक्ट का अधिकार पाने, ग्राम सभा को अधिक शक्तियां दिलाने, सिटीजन चार्टर को लागू करने, आधिकारिक कार्यों में होने वाली देरी को खत्म करने और पुलिस को लोकपाल/लोकायुक्त के नियंत्रण में लाने के लिए वह कार्य करेंगे.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.