लखनऊ –  प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजन के एक वर्ष पूर्ण होने पर सोमवार को लखनऊ में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा, ” शुरुआत में इस योजना में बहुत मुश्किलें थीं, लेकिन सभी के सहयोग से इसे आगे बढ़ाया गया। अब तक 1.18 करोड़ परिवार को इसका लाभ मिला है। एक लाख 79 हजार लोगों को मुख्यमंत्री आरोग्ययोजना के तहत गोल्डन कार्ड जारी किए गए हैं।”

मुख्यमंत्री ने कहा है कि एमबीबीएस डॉक्टरों का योगदान उत्तर-प्रदेश सरकार के लिए बहुत ही अहम रहा है। उन्होंने कहा कि अब एमबीबीएस के बाद डॉक्टरों को ग्रामीणों क्षेत्रों में दो साल की अपनी सेवा देनी होगी, इसके लिए ड्राफ्ट तैयार कर लिया गया है।

बीते कई वर्षों से यूपी में हेल्थ क्राइसिस के लेकर प्रदेश सरकार अब चौकन्ना हो गई है। सरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों में प्रबलता देते हुए कहा कि हर नागरिक को अच्छी शिक्षा व स्वास्थ्य सुविधा देना हमारी प्राथमिकता है। 15 नए मेडिकल कॉलेज पर काम शुरू किया है। डॉक्टरों की कमी को दूर करने का प्रयास जारी है। इन नए मेडिकल कॉलेजों में नए डॉक्टर मिलेंगे।आयुष्मान भारत में कुछ अभी धीमे हैं, उन्हें तेजी लाना होगा।

योगी ने कहा कि आयुष्मान भारत से सामाजिक सुरक्षा बढ़ी है, इसके लिए मोदी जी का मैं अभिनंदन करता हूं। स्वास्थ्य विभाग ने अच्छा काम किया है। संचारी रोग को रोकने के दिशा में बड़े स्तर पर काम हुए हैं। आम जन के मन में आज दवाइयों के लिए विश्वास है। कहीं भी योजनाओ का दुरुप्रयोग भी न होने पाए, इसके लिए विभाग को ध्यान देना होगा। लाइफ सपोर्ट एम्बुलेंस भी जनपदों को दी गई हैं। 1.5 वर्ष के अंदर 1 लाख से अधिक लोगों को लाइफ सपोर्ट एम्बुलेंस ने सेवा दी है।

इस पूरे प्रकरण पर टिप्पणी करते हुए स्वास्थ्य मंत्री जेपी सिंह ने कहा कि, पहले इलाज कराने के लिए लोगों को बहुत सी समस्याओं का सामना करना पड़ता था, लेकिन अब प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना शुरू हुई है, तब से लोगों की समस्याएं समाप्त हो गई हैं। आयुष्मान भारत की योजना के सफल एक साल पूरे होने पर मैं प्रधानमंत्री जी को बधाई देता हूं।

भारत में स्वास्थ्य सुविधा को लेकर मोदी सरकार ने एक अभियान चलाकर योजना बनाई थी , जिसका उन्होंने नाम आयुष्मान भारत योजना दिया था जिसमें आर्थिक रूप से कमजोर परिवार को 5 लाख रुपए तक का कैशलेस स्वास्थ्य बीमा उपलब्ध करवाया जाता है।

आयुष्मान भारत योजना के तहत उत्तर- प्रदेश में 1.18 करोड़ लाभार्थियों को 466 सरकारी और 1444 निजी अस्पतालों में मिल रहा इलाज मिल रहा है। जिसमें अब तक 1,77,575 का हुआ इलाज करके 4609113 का बनाया गया गोल्डन कार्ड भी बना दिया गया है। इस योजना से जुड़ी किसी भी जानकारी के लिए आप हेल्पलाइन नंबर 14555 पर बात कर सकते हैं।

रिपोर्ट – न्यूज नेटवर्क 24 डेस्क

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.