श्रावस्ती –  गिलौला के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में मुख्य द्वार पर ही थोड़े से बारिश में ही जल भराव हो जाता है जहां स्वास्थ्य को बेहतर करने के लिए केंद्र सरकार और राज्य सरकार मरीजो को समुचित इलाज वह एंबुलेंस जैसी व्यवस्थाओं को प्रदान कर रही है वही सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के मुख्य द्वार पर ही कीचड़ और गंदगी का अंबार है और थोड़े बारिश में भी जल भराव हो जाता है, जिससे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के अंदर जाने वाले वाहन और एंबुलेंस मरीज को बड़ी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है।

इस समस्या पर जिम्मेदार ध्यान देना मुनासिब नहीं समझ रहे हैं जैसे मरीज किसी प्रकार से सामुदायिक स्वास्थ केंद्र तक पहुंच पाता है अगर बात की जाए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के बाउंड्री वॉल की तो वहां पर पिछले 3 वर्षों से बाउंड्री वॉल टूट गई है लेकिन आज तक उसका पुरसा हाल लेने के लिए कोई नहीं आया श्रावस्ती के पूर्व जिला अधिकारी दीपक मीणा ने बाउन्ड्री वाल को बनवाने का आश्वासन दिया था लेकिन 3 वर्ष बीत जाने के बावजूद भी आज तक बाउन्ड्री बाल नहीं बन पाई बाउन्ड्री वाल न होने की वजह से कई बार आवारा कुत्ते और सूअर को भी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रांगण में देखा गया है।

गर्भवती महिलाओं के प्रसव की तो बाउंड्री वाल प्रसव कच्छ वा लेवर रुम एरिया में ही बाउन्ड्री वाल न होने की वजह से सरकार की सुरक्षित मातृत्व और कई ऐसी योजनाएं जो गर्भवती महिलाओं व नवजात शिशु के सुरक्षा को लेकर बनी है वास्तव में गिलौला के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में यह योजना की फेल होती नजर आ रही हैं ऐसे में गर्भवती महिलाओं के प्रसव और नवजात शिशु के जान का खतरा बना रहता है जिस पर जिम्मेदार ध्यान देना मुनासिब नहीं समझ रहे हैं इस संबंध में लोगों की राय लिया जाए तो लोगों का यह कहना है कि बाउंड्री वॉल ना होने की वजह से जच्चा बच्चा को इसका खामियाजा भुगतना पड़ सकता है

रिपोर्ट- न्यूज नेटवर्क 24

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.