एकातेरिनबर्ग – विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंच कर भारतीय मुक्केबाज अमित पंघाल ने इतिहास रच दिया है। ऐसा करने वाले अमित भारत के पहले मुक्केबाज हैं। अमित पंघाल ने 52 किग्रा वेट कैटेगरी में ये उपलब्धि हासिल की है। इससे पहले सेमीफाइनल में पहुंचते ही उन्होंने टोक्यो ओलंपिक का टिकट कटा लिया था।

पंघाल ने सेमीफाईनल जीतने के बाद कहा कि जाहिर है मैं काफी खुश हूं लेकिन अभी मेरा काम पूरा नहीं हुआ है। मैंने काफी मेहनत की है और यह सुनिश्चित करना चाहूंगा कि मुझे सर्वश्रेष्ठ पुरस्कार मिले। कल जिस मुक्केबाज से मुझे भिड़ना है मुझे उसके बारे में कुछ नहीं पता। मैं पहले कभी उसके खिलाफ रिंग में नहीं उतरा हूं। मैं पुराने वीडियो देखकर मुकाबले की तैयारी करूंगा।

अमित पंघाल ने सेमीफाइनल मुकाबले में कजाकस्तान के साकेन बिबोसिनोव को 3-2 से हराया है। विश्व में दूसरी वरीयता प्राप्त पंघाल शनिवार यानी आज उज्बेकिस्तान के शाकोबिदिन जोइरोव से भिड़ेंगे जिन्होंने सेमीफाइनल में फ्रांस के बिलाल बेनामा को हराया था। पंघाल इकलौते भारतीय मुक्केबाज है जिसने यूरोप के सबसे पुराने और प्रतिष्ठित प्रतियोगिता स्ट्रांदजा मेमोरियल में लगातार दो बार स्वर्ण पदक हासिल किया।

रिपोर्ट – न्यूज नेटवर्क 24

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.