सीतापुर – विकास खंड बेहटा की शारदा नदी में नेपाल बैराज से छोड़े गए लाखों क्यूसेक पानी से एक ओर जहां बेहटा ब्लाक का मीतमऊ गांव बाढ़ से जूझ रहा है। वहीं दूसरी ओर प्राथमिक विद्यालय व उच्च प्राथमिक विद्यालय में बाढ़ का पानी भर जाने से सैकड़ों बच्चों की शिक्षा प्रभावित हो रही है।

यहां जिलाधिकारी के आदेश कोई मायने नही रखते। डीएम के आदेश के बावजूद आज तक इन उच्च प्राथमिक विद्यालय को कहीं और स्थानांतरित नही किया गया है। जिससे इस विद्यालय के 155 एवं प्राथमिक विद्यालय के 92 बच्चों का भविष्य बर्बाद हो रहा है। यहां करीब 15 दिनों से बाढ़ का पानी भरा हुआ है। बच्चे पानी के बावजूद स्कूल पहुंच रहे हैं। लेकिन यहां न तो बैठने की व्यवस्था बची है, न ही पढ़ाई की।

इस समस्या के बाद डीएम ने आदेश दिया था कि बीएसए व एसडीएम को भेजकर जांच के बाद इन स्कूलों को दूसरी जगह स्थानांतरित करवा दिया जाए, ताकि बच्चों की पढ़ाई बाधित न हो, लेकिन आज तक ऐसा नही हुआ। वहीं स्कूल प्रबंधन इस बारे में कुछ भी बोलने को तैयार नही है। हालांकि शारदा नदी का जलभराव होने के कारण विद्यालय में बच्चों की संख्या में कमी है।

रिपोर्ट – नन्द किशोर नाग

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.