लखनऊ – उत्‍तर प्रदेश  के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने कहा कि असम में लागू किया गया नेशन रजिस्‍टर ऑफ सिटिजंस से भारत की राष्‍ट्रीय सुरक्षा को मजबूती मिलेगी। इसे देश के अन्‍य राज्‍यों में भी लागू किया जाना चाहिए। उन्‍होंने एक इंटरव्यू में कहा कि बांग्‍लादेशी घुसपैठियों की पहचान करना बहुत ही जरूरी है। उत्‍तर प्रदेश ही नहीं पूरा देश आंतरिक सुरक्षा के मुद्दे से जूझ रहा है। भारत में ज्‍यादातर घुसपैठिए बांग्‍लादेश से आए हैं।

योगी आदित्‍यनाथ ने भरोसा दिलाया कि बीजेपी असम की ही तरह देश के अन्‍य राज्‍यों में भी एनआरसी लागू करेगी। देश में घुसपैठ करने वाला बांग्‍लादेशी हो, पाकिस्‍तानी हो या किसी दूसरे देश का हो, सभी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। असम में 31 अगस्‍त को जारी एनआरसी की अंतिम सूची में 19 लाख से ज्‍यादा लोग शामिल नहीं हो पाए। असम में एनआरसी की अंतिम सूची जारी होने के बाद पूर्वोत्‍तर में बीजेपी के कद्दावर नेता हेमंत बिस्‍व सर्मा ने इसे खारिज कर दिया। उन्‍होंने मांग की सुप्रीम कोर्ट बांग्‍लादेश की सीमा से लगते जिलों से सूची में शामिल हुए कम से कम 20 फीसदी और शेष असम के 10 लोगों के पुनर्सत्‍यापन की मंजूरी दे।

 

असम बीजेपी के इस रुख के बाद भी देश भर में पार्टी के नेता एनआरसी को अन्‍य राज्‍यों में भी लागू करने की वकालत कर रहे हैं। दिल्‍ली बीजेपी के मुखिया मनोज तिवारी ने 31 अगस्‍त को राष्‍ट्रीय राजधानी में एनआरसी लागू करने की मांग दोहराई। तेलंगाना में बीजेपी के नेता ग्रेटर हैदराबाद से एनआरसी प्रक्रिया शुरू करने की मांग कर रहे हैं। गौशमहाल से विधायक टी. राजा ने कहा कि हैदराबाद में बड़ी संख्‍या में अवैध अप्रवासी हैं। ये लोग शहर की सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा हैं। शहर में हजारों बांग्‍लादेशी और रोहिंग्‍या अवैध तरीके से रह रहे हैं।

रिपोर्ट – न्यूज नेटवर्क 24

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.