प्रतापगढ़ – मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की महत्वकांक्षी योजना के तहत महिला उत्पीड़न मामलों में त्वरित न्याय दिलाने के लिये उ0प्र0 राज्य महिला आयोग की सदस्य अनीता सिंह ने आज लोक निर्माण विभाग के निरीक्षण गृह में महिला उत्पीड़न से जुड़े शिकायतों की सुनवायी की। महिला जनसुनवाई के दौरान कुल 13 शिकायतें महिला आयोग की सदस्य के समक्ष प्रस्तुत हुई। राज्य महिला आयोग की सदस्य के समक्ष आज शिकायतकर्ता कुसुम जायसवाल पत्नी राजेन्द्र प्रसाद जायसवाल निवासी ग्राम धधुआ गाजन, थाना कोतवाली लालगंज ने शिकायत किया किया।

प्रार्थिनी के पति नल पर पानी भर रहे थे कि इतने में जवाहर लाल सुत राम प्रसाद, विक्की व शक्ति सुतगण जवाहर लाल व शिवकुमारी पत्नी जवाहर लाल ने प्रार्थिनी के पति व प्रार्थिनी को मिलकर लाठी ठण्डा से मारा पीटा एवं जबरन विपक्षीगण द्वारा घर का सामान लूट ले गये। प्रार्थिनी ने इसके सम्बन्ध में थाना लालगंज में जाकर कोतवाल से सारी बाते बतायीं लेकिन पुलिस वाले कुछ नही किये। प्रार्थिनी ने जब 100 नम्बर पर फोन किया तो कोई नही आये लेकिन जब विपक्षीगण द्वारा फोन किया तो तुरन्त आये और प्रार्थिनी व उसके पति को गाली गुप्ता देने लगे। प्रार्थिनी को थाना लालगंज से कोई मदद् नहीं मिल रही है। शिकायत को संज्ञान में लेकर राज्य महिला आयोग की सदस्य अनीता सिंह ने थानाध्यक्ष लालगंज को प्रकरण की जांच कर आवश्यक कार्यवाही करने हेतु निर्देशित किया।

शिकायतकर्ता दुर्गावती देवी, दिव्यारानी एवं गरिमा निवासिनी ग्राम घरहिया, पो0-अमरगढ़ थाना आसपुर देवसरा ने शिकायत किया कि पड़ोस के ही सत्यनाथ त्रिगुनाईत, चन्द्र प्रकाश त्रिगुनाईत एवं अमित त्रिगुनाईत ने मामूली जमीनी विवाद की आड़ में पुरूषों की गैरमौजूदगी का फायदा उठाकर दिनांक 31.08.2019 को मारे-पीटे और बेइज्जत किये और दिव्यारानी शुक्ला जिसकी हाल ही में 19 मई 2019 को शादी हुई थी का मंगलसूत्र भी छीन ले गये। डायल 100 के द्वारा घटना की जानकारी थाना आसुपर देवसरा को दिया गया किन्तु वहां एक थाने के दलाल राम अकबाल यादव के चलते मेडिकल से पहले ही धारा-151 के तहत चालान एवं जमानत करवाकर थाने द्वारा अपने उत्तरदायित्वों की इतिश्री कर ली गयी। मेडिकल रिपोर्ट आने के बाद क्या कार्रवाई हुई, के जवाब में कहते है कि अभी और मार खाने एवं मरणासन्न तथा टूट-फूट की अतिगम्भीर दशा में ही अग्रिम कार्रवाई की जा सकेगी। उक्त प्रकरण को संज्ञान में लेकर राज्य महिला आयोग सदस्य ने क्षेत्राधिकारी पट्टी को जांच कराकर निस्तारण आख्या प्रस्तुत करने हेतु निर्देशित किया।

इसी प्रकार राज्य महिला आयोग की सदस्य के समक्ष शिकायतकर्ता सन्नो देवी निवासी चिलबिला पश्चिमी, नीतू देवी पुत्री त्रिजुगी थाना महेशगंज, मन्जू गुप्ता पुत्री बुद्धू गुप्ता थाना अन्तू, पन्ना लाल वर्मा सुत भागीरथी वर्मा थाना आसपुर देवसरा, कल्ली देवी पत्नी राम मिलन थाना पट्टी, राजकुमारी पत्नी स्व0 रामदेव पटेल थाना मानधाता, रीना यादव पत्नी प्रदीप यादव थाना जेठवारा, महेन्द्र प्रताप सिंह सुत दानपाल सिंह थाना सांगीपुर, मुन्नी देवी पत्नी सुभाषचन्द्र थाना कोहड़ौर, मुजीब अहमद थाना कोतवाली नगर एवं अफसरी बेगम पत्नी महमूद हुसेन थाना रानीगंज ने अपनी-अपनी शिकायतें राज्य महिला आयोग के समक्ष प्रस्तुत की।

महिला जनसुनवाई के दौरान प्राप्त हुई समस्त शिकायतों कों राज्य महिला आयोग की सदस्य ने सम्बन्धित थाने के थानाध्यक्ष एवं सम्बन्धित विभाग को भेजने का निर्देश दिया और कहा कि जो भी महिला उत्पीड़न सम्बन्धी शिकायतें आये उसका निस्तारण गम्भीरता पूर्वक अधिकारी करें और इसमें किसी भी प्रकार की शिथिलता व लापरवाही न बरती जाये। उन्होने यह भी कहा कि महिलायें जनसुनवाई के दौरान अपने उत्पीड़न सम्बन्धी कोई भी शिकायत उपस्थित होकर शिकायती प्रार्थना पत्र दे सकती है। इस दौरान सी0ओ0 सदर बविता सिंह, जिला प्रोबेशन अधिकारी रन बहादुर वर्मा, महिला थाना की इन्सपेक्टर कल्पना गौतम, महिला समाख्या की सरोज सिंह व अभय शुक्ला उपस्थित रहे।

रिपोर्ट – न्यूज नेटवर्क 24

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.