बिसवां, सीतापुर – केंद्र और राज्य सरकार चाहें कितनी भी मेहनत से पैसा ग्राम पंचायतों के लिए अपनी झोली खाली कर दे लेकिन यहाँ पर बैठे भूखे भेड़ियों को कम ही जाता है क्योंकि ग्राम पंचायतों में अभी तक गरीबों तक कोई योजना नहीं पहुंच पा रही है। बीच में बैठे लोग जनता को चूसने वाले मात्र अपनों को ही सारी योजनाओं का लाभ देकर ही अपना खजाना भर लेते हैं, इस ठेकेदारों के धांधली को कोई देखने वाला तक नही है।

विकास खंड सकरन के ग्राम पंचायत रीवान में जो देखने को मिल रहा है कि लोगों किसी प्रकार की कोई सुविधाओं का लाभ जनता को नही मिल पा रहा है। गाँव के अन्दर जाने व आने में काफी दिक्कत का सामना करना पड़ता है। रेवान ग्राम पंचायत के भाभुवा गाँव के निवासी परशुराम पुत्र मैकू कहतें है कि चार वर्ष बीत जाने के बाद अभी तक हमारे गाँव के आने जाने का रास्ता तक सही नही हो पाया है, जिससे हम लोगों व स्कूल जाने वाले बच्चों को काफी दिक्कतें होती है। प्रधान ने काफी पैसा हमारे गाँव के नाम पर काम दिखा कर निकाल रहे हैं लेकिन काम आज तक कुछ भी नही हुआ है।

भभुआ निवासी सोहन पुत्र राम प्रसाद कहते हैं कि हमारे गाँव का विकास कुछ भी नहीं हुआ है। जबकि सूत्रों से पता चला है कि रास्ता व नालियों के नाम पर लाखों रुपये प्रधान व पंचायत सचिव मालामाल हो रहें हैं। पर गाँव के लिए कोई रास्ता नहीं है। यहीं के निवासी राम कुमार कहते हैं कि गाँव में काम दिखा कर काफी पैसा निकाल लिया है, लेकिन गाँव में किसी प्रकार काम नही दिखाई दे रहा है। गाँव में बर्षात के दिनों में निकलना मुश्किल हो जाता है गाँव में हम लोग के रिस्तेदार आने में कतराते रहतें है सबसे बड़ी बात तो यह है कि गाँव के नाम से फर्जी काम दिखा कर लाखों रुपये हडप लिया है।

जिम्मेदार लोग कान मे रूई डाले हुए हैं। केंद्र व प्रदेश सरकार के योजनाओं को ठेकेदार व ग्राम प्रधान लगातार धज्जियां उड़ा रहे हैं। ग्राम पंचायत जहांगीराबाद,ग्राम पंचायत मानपुर,ग्राम पंचायत बिसेण्डी,ग्राम पंचायत शिवथाना उदाहरण है, यहां विकास के नाम पर फर्जी रूप से पैसा निकाल लिया जाता है ।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.