लाहौर – पाकिस्तान की धरती पर दोबारा से इंटरनेशनल क्रिकेट मैच होने की कोशिशों को करारा झटका लगा है। 10 साल बाद पाकिस्तान का दौरा करने जा रही श्रीलंका की टीम के 10 खिलाड़ियों ने टीम से अपने नाम वापस ले लिए हैं। श्रीलंका और पाकिस्तान के बीच सितम्बर-अक्टूबर में लिमिटिड ओवर्स की सीरीज खेली जानी हैं।

एसएलसी ने कहा कि खिलाड़ियों को लिमिटिड ओवर्स के मैचों के लिए सुरक्षा के इतंजामों के बारे में बताया गया था। फिर उन्हें इस पर फैसला लेने के लिए कहा गया था। इसके बाद इन खिलाड़ियों ने पाकिस्तान दौरे से अपना नाम वापस ले लिया।

इससे पहले, श्रीलंका के खेल मंत्री हेरिन फनार्डो ने कहा था कि अधिकतर खिलाड़ियों के परिवारों ने सुरक्षा स्थिति को लेकर अपनी चिंता जाहिर की है। उन्होंने कहा कि टीम के अधिकारी खिलाड़ियों से मुलाकात करेंगे और पाकिस्तान दौरे के लिए उन्हें समझाएंगे कि उन्हें वहां पर पूरी सुरक्षा दी जाएगी।

इस संबंध में सोमवार को एक बैठक हुई, जिसमें खिलाड़ियों ने पाकिस्तान दौरे से अपना नाम वापस लेने का फैसला किया। पाकिस्तान ने श्रीलंका के साथ होने वाली इस घरेलू सीरीज के लिए तारीखों का भी ऐलान कर दिया है। पाकिस्तान और श्रीलंका को कराची के नेशनल स्टेडियम में 27 सितम्बर, 29 सितम्बर और दो अक्टूबर को तीन मैचों की वनडे सीरीज खेलनी है।

इसके बाद दोनों टीमें लाहौर के गद्याफी स्टेडियम में पांच, सात और नौ अक्टूबर को तीन मैचों की टी-20 सीरीज खेलेगी। इसके बाद श्रीलंका भी दिसंबर में दो मैचों की विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप के लिए पाकिस्तान की मेजाबानी करेगी।

जियो टीवी ने श्रीलंका क्रिकेट (एसएलसी) के हवाले से बताया कि जिन खिलड़ियों ने सुरक्षा कारणों से पाकिस्तान दौरे से नाम वापस लिया है, उनमें वनडे टीम के कप्तान दिमुथ करुणारत्ने, टी-20 कप्तान लसिथ मलिगा, पूर्व कप्तान एंजेलो मैथ्यूज, निरोशन डिकवेला, कुसल परेरा, धनंजय डी सिल्वा, अकिला धनंजय, सुरंगा लकमल, दिनेश चंडीमल और दिमुथ करुणारत्ने शामिल हैं।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.