चालान की रकम देखकर वाहन छोड़कर जाने से मुश्किल नहीं होगी कम वाहन की कीमत से ज्यादा चालान की कीमत को देखकर कुछ लोग अपने वाहन को छोड़कर चले गए। इस तरह की खबरें आज कल खूब सामने आ रही है। लोगों को ये लगता है कि ऐसा करने से वो लोग चालान से बच जाएंगे लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है।

जानकारी के मुताबिक अगर आपके वाहन की कीमत 15 हजार रुपये हैं और ट्रैफिक नियम तोड़ने पर आपका 20 हजार का चालान हो जाता है। ऐसे में वाहन की कीमत को देखते हुए आप आपना वाहन ट्रैफिक पुलिस के ऊपर ही छोड़कर घर आ जाते हैं तो इसका मतलब यह नहीं की आप चालान की रकम चुकाने से बच गए। अगर किसी केस में ऐसा होता है तो ट्रैफिक पुलिस को अधिकार है कि वह ऐसे मामले को कोर्ट भेजे। कोर्ट जब्त हुए वाहन को नीलाम करने की अनुमति देगी। नीलाम की रकम सरकारी खाते में जाएगी। वहीं नियम तोड़ने पर वाहन चालक को कोर्ट में बुलाया जाएगा। जो नियम वाहन चालाक ने तोड़ा है उसके अनुसार उसे सजा दी जाएगी।

कोर्ट पहुंचने पर इस तरह और बढ़ जाएगी पेनल्टी की रकम

हर एक प्रदेश के हिसाब से चालान की रकम जमा कराने और सीज (जब्त) हुए वाहन को छुड़ाने के अपने-अपने नियम हैं। जैसे यूपी में अगर आपका चालान होता है तो चालान की तारीख से 7 दिन के अंदर आप सीओ ट्रैफिक के ऑफिस में जाकर चालान जमा कर सकते हैं। नहीं तो 7 दिन बाद आपका चालान कोर्ट में भेज दिया जाएगा। कोर्ट में आपको एक महीने के अंदर चालान की रकम जमा करानी होगी। इसके साथ ही कोर्ट समय से चालान जमा न करने और पुलिस को सहयोग न करने पर अतिरिक्त जुर्माना भी लगा सकता है। और यह कोर्ट पर निर्भर करता है कि वो आप पर कितना जुर्माना लगाता है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.