लखनऊ – इंडियन आर्थोपेडिक एसोसिएशन की ओर से प्रत्येक वर्ष चार अगस्त को हड्डी एवं जोड़ दिवस मनाया जाता है। इस मौके पर सभी आर्थोपेडिक सर्जन अपने क्लीनिक और अस्पताल में शुक्रवार को नि:शुल्क हड्डी जोड़ एवं स्पाइन परीक्षण शिविर का आयोजन किया जाएगा। इस दिन सभी आर्थोपेडिक सर्जन द्वारा उनके क्लीनिक पर निःशुल्क इलाज किया जाएगा। प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी निःशक्त लोगों के लिए निःशुल्क सर्जरी , निःशुल्क बीएमडी शिविर, आम जनता के लिए स्कूलों और कॉलेजों में कैंप लगाकर निःशुल्क इलाज किया जाएगा।

बोन एंड जॉइंट दिवस’ के इस मौके पर बोन विशेषज्ञ डॉ अनूप अग्रवाल का कहना है कि हड्डी और जोड़ को स्वस्थ रखने के लिए बच्चों को नियमित रूप से दूध का सेवन कराना चाहिए। इसके अलावा बच्चों को मैदान में खेलने देना चाहिए। लड़कियों को दूध का सेवन करने के लिए प्राथमिकता दें क्योंकि स्वस्थ मां ही स्वस्थ बच्चे को जन्म देती है। बच्चों में अच्छा अस्थि घनत्व होने से भविष्य में आस्टियोपोरोसिस का खतरा कम हो जाता है और बच्चों एवं गर्भवती महिलाओं के समुचित आहार एवं व्यायाम करने के लिए सुझाव दिया गया।

हमारे देश में बढ़ती आयु के साथ अस्थियों को मजबूत करने तथा स्वस्थ रखने के लिए प्रतिवर्ष बोन एंड जॉइंट दिवस’ मनाया जाता है। 70 से अधिक आयु के व्यक्ति पर लगभग 75 प्रतिशत खर्च आर्थोपेडिक समस्याओं पर होता है और यह इस उम्र के व्यक्ति के उपर तथा राष्ट्र पर आर्थिक बॉर्डन है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार आस्टियो पोरोसिस बढ़ती उम्र के साथ सबसे खतरनाक समस्या है। इंडियन आर्थोपेडिक एसोसिएशन द्वारा ‘बोन एंड जॉइंट दिवस के इस खास मौके पर सभी सर्जनों के मदद से सभी कॉलेजों और उचित जगहों पर कैंप लगाकर इलाज करके जागरूकता फैलाया जाएगा।

हर साल की तरह इस साल भी देश के सभी ऑर्थोपेडिक सर्जन अपनी क्लीनिक तथा हॉस्पिटल में इन कार्यकर्मो का आयोजन करेंगे-

1- निःशक्त लोगो के लिए निःशुल्क सर्जरी।
2- निःशुल्क बी.एम.डी शिविर।
3- आम जनता के लिए स्वास्थ्य शिक्षा कार्यक्रम
4- आम जनता की जागरूकता के लिए रैली तथा अन्य कार्यक्रम।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.