कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने आज फिर दो टूक कहा कि पार्टी को जल्द से जल्द नया अध्यक्ष चुन लेना चाहिए। मैं पहले ही अपना इस्तीफा सौंप चुका हूं और मैं अब पार्टी प्रधान नहीं रहना चाहता। कांग्रेस वर्किंग कमेटी को जल्द से जल्द बैठक करके इस मामले में फैसला कर लेना चाहिए।

राहुल गांधी ने ये भी कहा कि पार्टी का नया अध्यक्ष एक महीने पहले ही चुन लिया जाना चाहिए था। राहुल गांधी के इस बयान के बाद अब लगभग तय है कि कांग्रेस का अगला अध्यक्ष नेहरू गांधी परिवार से बाहर का होगा, क्योंकि, राहुल गांधी अब किसी भी कीमत पर इस्तीफा वापस लेने के मूड में नहीं हैं। बता दें कि राहुल गांधी ने लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की हार के बाद ही सीडब्ल्यूसी को अपना इस्तीफा सौंपा था। हालांकि, पार्टी के दिग्गज नेता उन्हें मनाने में लगे थे लेकिन वह किसी की भी बात मानने को तैयार नहीं हैं। लोकसभा चुनाव का नतीजा आए एक महीना से अधिक हो गया है लेकिन अभी तक कांग्रेस का संकट खत्म नहीं हो रहा है। पार्टी के अध्यक्ष राहुल गांधी इस्तीफा देने की बात पर अड़े हुए हैं और नया अध्यक्ष बनाने की मांग कर रहे हैं।

लोकसभा चुनाव में निराशाजनक प्रदर्शन के बाद कांग्रेस में नेतृत्व संकट के बीच, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बुधवार को संयुक्त प्रगतिशील गठंबधन (सप्रंग) अध्यक्ष व पार्टी की वरिष्ठ नेता सोनिया गांधी से उनके आवास पर मुलाकात की। पार्टी सूत्रों ने बताया कि सोनिया गांधी के साथ गहलोत की मुलाकात ४० मिनट से ज्यादा चली।

कांग्रेस के पांचों मुख्यमंत्रियों के सोमवार को राहुल गांधी से मुलाकात कर उन्हें कांग्रेस प्रमुख पद पर बने रहने का आग्रह करने के दो दिन बाद गहलोत ने सोनिया से मुलाकात की है। हालांकि, राहुल गांधी ने मुख्यमंत्रियों की मांगों को खारिज कर दिया है और उन्हें नए पार्टी अध्यक्ष की तलाश करने को कहा है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.