उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार में मंत्री उपेंद्र तिवारी ने विवादित बयान दिया है। तिवारी ने रेप की अलग-अलग प्रकृति गिनाई है। उन्होंने कहा है कि हर रेप का अलग नेचर (प्रकार) होता है। उपेंद्र तिवारी ने कहा कि कई बार 7-8 साल रिश्ते में रहने के बाद भी महिलाएं रेप का आरोप लगा देती हैं, ऐसा है तो सवाल तो उठेगा ही कि 7 साल पहले क्यों नहीं कहा।

महिलाओं के खिलाफ बढ़ते क्राइम पर पत्रकारों से बात करते हुए मंत्री उपेंद्र तिवारी ने कहा, ‘रेप का अलग-अलग नेचर (प्रकार) होता है। अब जैसे कोई नाबालिग लड़की है, उसके साथ रेप हुआ है तो उसको तो हम रेप मानेंगे, लेकिन कहीं-कहीं यह भी सुनने में आता है कि विवाहित महिला है, उम्र 30-35 साल है। कई बार 7-8 साल से प्रेम संबंध चल रहा है, मगर आरोप लगाते हैं कि मेरे साथ रेप हुआ है। तो यह आम सवाल होता है कि 7 साल पहले इस बारे में सोचना चाहिए था। तो अलग-अलग नेचर होता है रेप का।’

उन्होंने आगे कहा, ‘रेप की कहीं भी कोई घटना होती है, तो मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उसका खुद संज्ञान लेते हैं और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करना सरकार की प्राथमिकता है।’ बता दें कि अलीगढ़ में ढाई साल की बच्ची की निर्मम हत्या के बाद से पूरे देश में गुस्सा है और लोग इंसाफ की गुहार लगा रहे हैं।

इसके अलावा कुशीनगर में एक 13 वर्षीय किशोरी के साथ हैवानियत की घटना सामने आई है। यहां एक मासूम किशोरी को उसके घर के पास से किडनैप कर करीब आधा दर्जन लोगों ने सामूहिक दुष्कर्म किया। पीड़िता का अस्पताल में इलाज चल रहा है। घटना के बाद एफआईआर दर्ज कराने गई पीड़िता की मां को अहरौली बाजार थाने के एसएचओ ने भगा दिया और बेटी का इलाज कराने की नसीहत दी।

मंत्री उपेंद्र तिवारी रविवार को विकास कार्यों और भाजपा संगठन की समीक्षा के लिए गोंडा पहुंचे थे। यहां उन्होंने अलीगढ़, हमीरपुर और जालौन में हुई रेप की घटनाओं के सवाल पर विवादित बयान दिया। तिवारी योगी सरकार में परती भूमि व जलसंसाधन राज्यमंत्री हैं। तिवारी ने पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर भी तंज कहा। कहा कि अखिलेश यादव एक्सपेरिमेंट करते हैं। पहले गठबंधन का असफल एक्सपेरिमेंट किया। मस्जिद जाते थे, अब बाबा भोलेनाथ की शरण में गए हैं। तिवारी ने कहा कि हो सकता है कि अखिलेश अयोध्या भी जाएं।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.