लखनऊ। समाजवादी पार्टी मीरजापुर से अपने घोषित उम्मीदवार का टिकट काटकर भाजपा सांसद रामचरित्र निषाद को उम्मीदवार बना सकती है। इस खबर में यदि सच्चाई है,तो गठबन्धन का खासा नुकसान होगा। राष्ट्रीय निषाद संघ के राष्ट्रीय सचिव व सपा नेता चौ.लौटनराम निषाद ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा कि यदि समाजवादी पार्टी मीरजापुर के गठबन्धन के घोषित उम्मीदवार राजेन्द्र एस. बिन्द का टिकट काटकर भाजपा सांसद रामचरित्र निषाद को उम्मीदवार बनाती है,तो सपा का यह निर्णय भाजपा को दर्जनों सीटों का तोहफा देने वाला होगा।उन्होंने कहा कि रामचरित्र निषाद को मैं ही राजनीति में लाया और 2007 में मेंहदावल से कांग्रेस के घोषित उम्मीदवार अनिल त्रिपाठी का टिकट कटवाकर इसे उम्मीदवार बनवाया।भाजपा से मछलीशहर(सु) से टिकट दिलवाने में भी मेरी ही भूमिका रही।लेकिन जब इसके चाल-चरित्र का मुझे दिल्ली प्रवास के दौरान पता चला, तो मैंने इससे दूरी बनाना उचित समझा।यह काल गर्ल व एयर होस्टेस की सप्लाई करता-कराता है।

श्री निषाद ने कहा कि रामचरित्र निषाद चुनाव जीतने के लिए कम अनुप्रिया पटेल को चुनाव जीताने के टिकट के लिए सपा के ही कुछ सौदेबाज नेताओं के द्वारा आगे किया गया है। भाजपा एक रणनीति के तहत रामचरित्र निषाद को राजेन्द्र बिन्द का टिकट कटवाने के लिए लगाया है।भाजपा इस रणनीति में जुटी है कि बिन्द का टिकट कटने से बिन्द समाज का निर्णायक वोट भाजपा के साथ जुड़ जाएगा। ग़ाज़ीपुर, मीरजापुर, जौनपुर, फूलपुर, मछलीशहर, लालगंज, चन्दौली, वाराणसी, इलाहबाद, सोनभद्र, प्रतापगढ़, सुलतानपुर, बलिया में बिन्द वोटबैंक निर्णायक है। भाजपा ने रामचरित्र को राज्यसभा में भेजने की शर्त पर रणनीति के तहत टिकट काटने का नाटक किया। रामचरित्र निषाद को यदि मीरजापुर से सपा घोषित उम्मीदवार राजेन्द्र बिन्द का टिकट काटकर उम्मीदवार बना दिया गया तो बिन्द समाज नाराज़ हो भाजपा की तरफ आ जायेगा।

निषाद ने कहा कि सपा प्रमुख ने बहकावे में आकर राजेन्द्र एस. बिन्द का टिकट काटकर रामचरित्र निषाद को उम्मीदवार बनाया तो सपा-बसपा गठबन्धन का बड़ा नुकसान उठाना पड़ेगा।यदि रामचरित्र निषाद को चुनाव लड़ाना चाहती है, तो इलाहाबाद से टिकट दे दे, वहां 3 लाख से अधिक निषाद-बिन्द हैं। उन्होंने कहा कि वैसे सपा किसी भी दशा में रामचरित्र जैसे चरित्रहीन को उम्मीदवार नहीं बनाना चाहिए।सपा बहकावे में आकर राजेन्द्र बिन्द का टिकट काटती है,तो पैर में कुल्हाड़ी मारने जैसा निर्णय होगा और इससे सपा की सोशल इंजीनियरिंग गड़बड़ा जाएगी।राजेन्द्र बिन्द की उम्मीदवारी से अपनी हार निश्चित मानकर अनुप्रिया पटेल सपा के पूर्व मंत्री कैलाश चौरसिया, सपा प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम के समधी प्रभात पटेल आदि को बिन्द का टिकट कटवाने के लिए जुटवा दिया।उन्होंने सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव से आग्रह किया है कि किसी भी दशा में सपा उम्मीदवार राजेन्द्र बिन्द का टिकट काटने की गलती न करें।मिर्ज़ापुर से राजेन्द्र बिन्द की उम्मीदवारी बिल्कुल उपयुक्त है।बिन्द 2 से अधिक वोट से जीतेंगे।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.