आज हम आपको एक ऐसी खबर बताने जा रहे हैं जिसे पढ़कर शायद आप आश्चर्यचकित रह जाएं। इसके साथ ही आपको थोड़ा गुस्सा भी आए। आपने आम तौर पर देखा होगा कि गौरे और काले लोगों के बीच भेदभाव की खबरें सुनी होंगी।

अमूमन आपने देखा होगा कि समाज में गौरे बच्चों को ज्यादा तरजीह दी जाती है। लेकिन दुनिया में एक जनजाति ऐसी भी है जहां उनके घर अगर बच्चा गोरा पैदा हो जाये तो उस जनजाति के लोग उस बच्चें को साथ ऐसा करते है कि जानकर आपकी रुह कांप जाएगी। दुनिया के हर कोने में कोई भी इंसान चाहे वह किसी भी जनजाति की हो वह यहीं चाहता है कि उसके बच्चें का रंग साफ हो।

जैसा कि हम सब जानते और मानते है कि बच्चा गोरा हो या काला इस बात पर हमें कोई भी भेदभाव नहीं करना चाहिए, बल्कि उसे और भी प्यार के नजरिये से देखना चाहिए। और तो और कई लोगों का यह मानना होता है कि अगर बच्चें की माँ का रंग का साफ नहीं है तो भी वह बच्चें को गोरा ही चाहते हैं इसके लिए लोग गर्भवती महिलाओं को अच्छा खिलाते-पिलाते है, लेकिन हम जिस जनजाति के बारे में बात करने जा रहें हैं उसको जानकर आपकी रुह कांप जायेगी।

आपको बता दें कि यह जनजाति अडंमान में है जहां इन लोगों का यही मानना है कि अगर बच्चा थोड़ा गोरा होगा तो वह उस प्रजाति के लोगो से अलग होगा जिससे वह अपने आप को उस समाज से पृथक समझेगा। वहां की यह जनजाति गर्भवती महिलाओं को जानवारों का खुन भी पिलाते है ताकि बच्चे का रंग काला हो। इसी कारण से यहां यह परंपरागत रुप से चल रहा है।

मिली खबर के अनुसार हमें यह पता चला है कि जब भी इस जनजाति में कोई बच्चा अगर गोरा हुआ तो उसे जान से मार दिया जाता है वो भी बस इसलिए क्योंकि वह दुसरों से अलग दिखता है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.